बड़ा प्रदर्शन:हमने कंपनी को अरबों का मालिक बनाया हमें हक के बदले सिर्फ भीख मिली

चाईबासा9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अपना दर्द बयां करते मजदूर। - Dainik Bhaskar
अपना दर्द बयां करते मजदूर।
  • ग्रामीणों ने 9 अक्टूबर को बड़ा प्रदर्शन करने का लिया फैसला

करमपदा शाह ब्रदर्स में मजदूरों का आंदोलन अब और तूल पकड़ रहा है। मजदूरों ने अपना दर्द बयां करते हुए कहा-शाह ब्रदर्स मजदूरों को उनका हक दिलाने की जगह पर मानकी-मुंडाओं द्वारा पैसा देकर आंदोलन को दबाने का प्रयास कर रही है। जबकि आजतक प्रबंधन ने मजदूरों का हक लूटा है।

यहां के आदिवासी गरीबी और जानकारी के अभाव में अपना हक आजतक नहीं ले पाए हैं। झारखंड जेनरल कामगार यूनियन ने हमको पहली बार श्रम ऑफिस दिखाया और सही हक अधिकार का बारे में बताया। हमलोगों ने शाह ब्रदर्स को अपना खून पसीना एक कर अरबों का मालिक बनाया, लेकिन आज जब हमारे हक की बात आ रही है तो भीख दे रहा है।

क्या इतने में अपना भविष्य और बाल बच्चों का लालन-पालन कर पाएंगे। राज्य सरकार को 200 करोड़ देना है, अगर हमलोग काम नहीं करते तो क्या इतना पैसों की बात होती। जब सरकार को राजस्व ही 200 करोड़ बनता है, तो हम मजदूरों का कम से कम 15 लाख जरूर बनना चाहिए। सब 900 मजदूरों का कुल हिसाब किया जाए तो एक अरब 35 करोड़ रु भुगतान होना चाहिए।

फिर भी कंपनी हमलोगों का ध्यान रखकर फूल एंड फाइनल देना चाहिए। आज जो भी हड़ताल हो रही है हमलाेग खुद कर रहे हैं और बाहरी लोग कोई नहीं है। इस हड़ताल का जिम्मेदार भी शाह ब्रदर्स का प्रबंधन ही है। कंपनी प्रबंधन अगर दलालों को भेज कर आंदोलन तोड़ना चाहती है तो आंदोलन और तेज होगा और उसका नुकसान कंपनी को ही होगा। 09 अक्टूबर को चाईबासा में बड़ा प्रदर्शन किया जाएगा। हमारी मांगें नहीं सुनी जा रही हैं, अब हमें बड़ा प्रदर्शन करना पड़ेगा, पदाधिकारी भी ध्यान नहीं रहे हैं।

खबरें और भी हैं...