पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Jamshedpur
  • Galudih
  • Suku Sabar Returned Home Without Speaking After Being Not Treated At MGM For A Day; There Was Panic Among The Personnel, Again In The Evening Sent By Ambulance To The Hospital

सुधर नहीं रहा स्वास्थ्य विभाग का सिस्टम:एमजीएम में दिनभर इलाज नहीं होने पर बिना बोले सुकू सबर वापस घर लौटा; कर्मियों में मची खलबली, फिर से शाम में एंबुलेेंस से भेजा अस्पताल

गालूडीह21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एमजीएम से घर पहुंच सुकू ने खाया खाना - Dainik Bhaskar
एमजीएम से घर पहुंच सुकू ने खाया खाना
  • समाजसेवी के ट्वीट पर बीमार सुकू सबर काे डीसी ने इलाज के लिए एमजीएम अस्पताल में कराया भर्ती

घाटशिला प्रखंड के दारीसाई के बीमार सबर बच्चे की दैनिक भास्कर में खबर प्रकाशित हाेने के बाद गालूडीह के समाजसेवी विकास कुमार गुप्ता ने प्रकाशित खबर के स्क्रीन शाॅट के साथ स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, परिवहन मंत्री चंपाई साेरेन व उपायुक्त पूर्वी सिंहभूम काे ट्वीट किया। जिसके बाद स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता के निर्देश पर उपायुक्त पूर्वी सिंहभूम ने पहल करते हुए तुरंत किशोर सुकू सबर (11 वर्ष) काे एमजीएम अस्पताल में भर्ती करवाया। स्वास्थ्य विभाग की टीम सुकू सबर को हॉस्पिटल में भर्ती करवा दिया।

एमजीएम से घर पहुंच सुकू ने खाया खाना
एमजीएम से घर पहुंच सुकू ने खाया खाना

वहां कोई भी डाॅक्टर अथवा स्वास्थ्यकर्मी बीमार का हाल चाल लेने नहीं आए। दिनभर जब उसे कोई पूछने नहीं आया तो सुकू सबर के पिता बुद्धेश्वर सबर को समझ में नहीं आया इलाज कहां करवाएं। जब इलाज नहीं शुरू हुआ तो वे बेटे को लेकर अस्पताल से बिना कुछ बोल निकल गए। उसके बाद बस पर चढ़कर वापस दारीसाई सबर बस्ती पहुंच गए। इसकी भनक जब अस्पतालकर्मियों को मिली को हड़कंप मच गया। देर शाम को अनुमंडल अस्पताल से टीबी विभाग के दुर्गा प्रसाद पानी, असीम महतो, मृणाल कांति पहुंचे। यहां उसे बताया गया कि बच्चे काे टीबी की बीमारी नहीं है।

उसकेे बाद उसेे फिर से 108 एंबुलेंस बुलाकर एमजीएम अस्पताल भेजा गया। जानकारी हो कि खून की कमी के कारण इलाज के अभाव में दारीसाई का किशोर सुकू सबर घर में पड़ा हुआ है। इसकी खबर दैनिक भास्कर में सोमवार के अंक में दारीसाई के बीमार किशोर सुकू सबर का केवल दिख रहा शरीर का ढांचा, आर्थिक तंगी के कारण परिजन नहीं करा पा रहे इलाज शीर्षक से प्रकाशित की गई थी। इस खबर को कुछ लोगों ने डीसी को ट्वीट कर आग्रह किया था। डीसी की पहल पर स्वास्थ्यकर्मी हरकत में आए और उसे घर से एंबुलेंस में बैठाकर एमजीएम अस्पताल ले गए।

खबरें और भी हैं...