युवतियों को बनाया बंधक:कोयम्बटूर के कपड़ा मिल में बंधक अनुमंडल की 30 युवतियां

घाटशिल/मुसाबनी9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
झारखंड से जाते वक्त दलाल युवतियों के साथ सेल्फी लेता। - Dainik Bhaskar
झारखंड से जाते वक्त दलाल युवतियों के साथ सेल्फी लेता।
  • कौशल विकास कार्यक्रम के तहत गई थीं काम करने
  • वाट्सएप पर मैसेज भेजकर मुक्त कराने की लगाई गुहार

तमिलनाडु के कोयंबटूर स्थित केपीआर मिल लिमिटेड में कार्यरत घाटशिला अनुमंडल की करीब 30 युवतियां बंधक बनी हैं। उन युवतियों ने झामुमो नेताओं को वाट्सअप पर मैसेज भेजकर मुक्त कराने की गुहार लगायी है। युवतियों ने बताया कि झारखंड के कई जिलाें से आयी हुईं लगभग 500 युवतियाें को बंधुआ मजदूर बनाकर मिल में रखा गया है।

इसमें मुसाबनी और घाटशिला सहित दूसरे इलाकों की 30 युवतियां शामिल हैं। जानकारी के अनुसार, विगत वर्ष अक्टूबर महीने में इन युवतियों को कौशल विकास केंद्र के माध्यम से तमिलनाडु के कोयंबटूर स्थित कपड़ा मिल में काम करने के लिए भेजा गया था।

ओडिशा का रहने वाला रंजन बेहरा इन युवतियों को ले गया था। वहां ले जाने समय परिजनों को बेहतर भविष्य का सपना दिखाया गया था। वहां पहुंचने के बाद स्थिति विपरीत मिली। उनसे 8 घंटे की बजाय 10 से 12 घंटे काम कराया जा रहा है। ज्यादा काम करने के कारण इनकी तबीयत बिगड़ती रही है। इन्हें समय पर वेतन भी नहीं दिया जा रहा है।

फैक्ट्री परिसर से बाहर निकलने की मनाही

बताते चलें युवतियों को फैक्ट्री परिसर से बाहर भी निकलने की मनाही है। हमेशा इन पर पहरा रहता है, ताकि युवतियां किसी को फोन नहीं कर पाएं। छुप-छुप कर व्हाट्सएप के माध्यम से इन लड़कियों ने मुसाबनी झामुमो प्रखंड अध्यक्ष प्रधान सोरेन एवं सोशल मीडिया प्रभारी को इसकी जानकारी तस्वीर संग भेजी। साथ ही साथ मुख्यमंत्री एवं विधायक रामदास सोरेन को लिखित पत्र के माध्यम से गुहार लगायी है। उन्हें उनके घर पहुंचाया जाए और कंपनी प्रबंध पर सख्त कार्रवाई की जाए। ताकि दुबारा झारखंड की युवतियों का शोषण नहीं हाे सके।

झामुमाे नेता का यह है कहना

युवतियों ने झामुमो नेता प्रधान सोरेन और गौरांग महाली को बताया कि पूरे झारखंड से लगभग 500 युवतियां यहां काम रही है,सबके साथ यही स्थिति है। रविवार को मुसाबनी दौरे पर आये विधायक रामदास सोरेन को प्रधान सोरेन एवं गौरांग महाली ने इससे अवगत कराया। विधायक ने निर्देश दिया कि मुसाबनी सहित घाटशिला विधानसभा की जितनी भी युवतियां फंसी है ,उनके अभिभावकों से डीसी के नाम लिखित आवेदन जमा करवा उनके पास जमा करवा दें, शीघ्र ही इसका निराकरण करवाएंगे।

खबरें और भी हैं...