पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सामुदायिक स्वास्थ्य:1.5 कराेड़ की लागत से बना 50 बेड का ग्रामीण अस्पताल भवन हैंडओवर से पहले ही दरका

धालभूमगढ़11 दिन पहलेलेखक: महेंद्र साव
  • कॉपी लिंक

प्रखंड क्षेत्र के पावड़ा नरसिंहगढ़ गांव मौजा में 1 करोड़ 55 लाख 91 हजार 918 रुपए की लागत से बनाए गए 50 बेड के ग्रामीण अस्पताल भवन में हैंडओवार के पहले ही चारों ओर से दीवार व छत में दरारें आने लगी हंै। उक्त भवन का निर्माण कार्य मेसर्स न्यू भारत कंस्ट्रक्शन कंपनी रांची द्वारा किया गया है।

भवन निर्माण कार्य 2-3 साल पहले ही किया गया था। जिस स्थान पर भवन बनाया गया है, उस स्थान पर पहले ग्रेवल की खुदाई हुआ करती थी। ग्रेवल खुदाई के कारण 20-25 फीट गड्ढा बना है, उसी गड्ढे में ही भवन का निर्माण कर दिया गया है। ग्रामीण अस्पताल भवन तक जाने के लिए रास्ता भी नहीं है।

जोरदार बारिश होने पर अस्पताल भवन के चारों ओर पानी जम जाता है। अस्पताल भवन तक जाने के लिए चार चक्का तो दूर की बात, बाइक भी जाना मुश्किल है। अस्पताल भवन परिसर में चहारदीवारी भी नहीं बनाई गई है, ऐसे में कभी भी भवन में लगी खिड़की, दरवाजा व पंखे की चोरी हो सकती है। भवन की देखरेख गांव के अनूप कालिंदी, मंगल कालिंदी और कमला कालिंदी करते हैं।अनूप कालिंदी और मंगल कालिंदी ने जानकारी देते हुए बताया कि ठेकेदार द्वारा छह महीना से भवन की रखवाली के लिए पैसा नहीं दिया है। ऐसे में दिन-रात रखवाली करना मुश्किल हो गया है।

खंडहर हो चुका है एक सीएचसी भवन

ग्रामीण अस्पताल के सामने वर्ष 2007-8 में लगभग चार करोड़ रुपए की लागत से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भवन का निर्माण किया गया था। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के एक दिन चले बिना ही भवन खंडहर बन गया है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भवन की खिड़की, दरवाजा, फैन समेत अन्य सामग्री वर्षों पहले ही चोरी हो चुकी है। इस खंडहर समुदायिक भवन को चालू करवाने को लेकर विधायक, सांसद तथा जिला स्तरीय पदाधिकारियों का बीच-बीच में आना जाना लगा रहता है, लेकिन भवन जस की तस है।

इसको लेकर क्षेत्र के लोगों का कहना है भवन आम लोगों की सहूलियत के लिए नहीं बनाया गया, बल्कि अधिकारी, पदाधिकारी, नेता, मंत्री व ठेकेदाराें की जेब भरने के लिए करोड़ों रुपए की लागत से बनकार छोड़ दिया गया है। इधर धालभूमगढ़ में चल रहे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की जरूरत के अनुसार निजी भवन नहीं होने के कारण स्वास्थ्य सेवा देने में भवन की कमी महसूस हाेती है।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भवन जर्जर हो चुका है, कई बार भवन का प्लास्टर टूट कर गिर चुका है, बड़ी दुर्घटना होते-होते कई बार बची है। कुछ महीनों पहले चल रही सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र धालभूमगढ़ के समीप उप स्वास्थ्य केंद्र भवन निर्माण कार्य का शिलान्यास सांसद विद्युतवरण महतो और विधायक रामदास सोरेन द्वारा सामूहिक रूप से किया गया था। शिलान्यास किए कई महीने बीत जाने के बाद अभी तक भवन निर्माण का कार्य शुरू नहीं हुआ।

खबरें और भी हैं...