पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

महापर्व:मकर संक्रांति का पुण्य काल सुबह 8.03 से दोपहर 12.30 बजे तक स्नान, ध्यान, पूजा, जप और दान लोगों के लिए विशेष लाभकारी होगा

घाटशिला3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सूर्यदेव धरती के उत्तरी गोलार्ध में प्रवेश करेंगे, मलमास समाप्त होगा, विवाह आदि मांगलिक कार्य संपन्न किए जाएंगे

मकर संक्रांति सूर्य और शनिदेव की पूजा, उपासना और दान से जुड़ा महापर्व है। इसके बाद सूर्यदेव धरती के उत्तरी गोलार्ध में प्रवेश करते हैं, जिसे सूर्य का उत्तरायण होना भी कहा जाता है। इस संबंध में ज्योतिषाचार्य ऋचा श्रीवास्तव ने बताया यही वह महत्वपूर्ण दिन है जब शुक्र तारा उदित होता है और मलमास समाप्त होता है। मांगलिक कार्य संपन्न किए जाते हैं। महाभारत में भी वर्णन है कि युद्ध के समय शर-शैय्या पर पड़े भीष्म पितामह ने सूर्य की मकर संक्रांति के दिन अपनी मृत्यु की इच्छा जताई थी। उन्होंने बताया था कि इस दिन प्राण त्यागने पर मोक्ष की प्राप्ति होती है।

इस दिन पश्चिम बंगाल के गंगा सागर तट पर बड़ा मेला लगता है। शास्त्रों के अनुसार, सूर्य के संचार के साथ संक्रांति एक देवी के रूप में आती हैं। इनका वाहन और उप वाहन भी होता है। इस वर्ष संक्रांति का आगमन कन्या के रूप में बाघ पर सवार, गदा लिए हुए श्वेत-पीले वस्त्रों में हो रहा है। उपवाहन गज है। आग्नेय कोण पर दृष्टि है और पूर्व की तरफ गमन हो रहा। इसके परिणाम स्वरूप देश-दुनिया में युद्ध, हिंसा, उपद्रव, प्राकृतिक आपदाओं आदि की अधिकता होगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां आपके स्वाभिमान और आत्म बल को बढ़ाने में भरपूर योगदान दे रहे हैं। काम के प्रति समर्पण आपको नई उपलब्धियां हासिल करवाएगा। तथा कर्म और पुरुषार्थ के माध्यम से आप बेहतरीन सफलता...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...

  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser