कड़ी निंदा:छात्राओं पर पुलिस की लाठीचार्ज निंदनीय, राज्य सरकार का छात्र विरोधी चेहरा उजागर

घाटशिला3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शनिवार काे धनबाद में प्रदर्शन कर रहे छात्राओं पर एसडीएम व पुलिस की ओर से बर्बरता पूर्वक लाठी चार्ज किए जाने की घटना के विराेध में अभाविप कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी करते हुए काॅलेज गेट पर झारखंड सरकार का पुतला दहन किया। इस अवसर पर अभाविप के जिला सह संयोजक राजू महतो ने बताया कि धनबाद में बारहवीं की अनुतीर्ण छात्राओं पर पुलिस द्वारा की गयी लाठीचार्ज की अभाविप कड़ी निंदा करती है।

शांतिपूर्ण रुप से अपनी मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे निहत्थे छात्राओं पर बर्बरतापूर्ण तरीके से हुई पुलिस कार्रवाई से वर्तमान सरकार की संकुचित मानसिकता और बेटियों के प्रति सरकार की सोच का पता चलता है। जनसमस्याओं का समाधान करना ही सरकार का मूल दायित्व है, लेकिन इसके विपरीत सरकार के कैबिनेट मंत्री की उपस्थिति में पुलिस द्वारा लाठीचार्ज कर छात्राें की आवाज़ को दबाने का प्रयास किया जा रहा है।

कोरोना महामारी का असर हर कोई पर पड़ा है, चाहे वो छात्र हों ,व्यापारी हों, या कोई और। कोरोना से पूरा विश्व जूझ रहा है और हर कोई अपने स्तर से इस वैश्विक महामारी से उपजे संकट से निबटने में लगा हुआ है। ज्ञात हो कि इस वर्ष मैट्रिक एवं इंटरमीडिएट की परीक्षा भी कोविड के खतरे को ध्यान में रखते हुए रद्द की गई थी और बिना परीक्षा के सभी का मूल्यांकन पुराने परीक्षाओं में छात्रों के प्रदर्शन के आधार पर किया गया।

अतः शिक्षा मंत्रालय/सरकार का यह दायित्व है कि जिन छात्रों को फेल किया गया, उनके मूल्यांकन का क्या आधार था, इसे सूचित करें। मगर हेमंत सरकार अधिकार की लडाई लड़ने वालों की आवाज को लाठी के बल पर निरंतर दबा रही है। अभाविप मांग करती है कि इस घटना के लिए दोषी प्रशासनिक एवं पुलिस पदाधिकारियों पर करवाई हो और छात्र छात्राओं के साथ न्याय हो।मौके पर अमित हाजरा, विवेक महापात्र, प्रिंस कुमार, सुदामा महतो, रामकृष्ण महतो, सौभिक मोहांती, सुमन दास, सुमित नाथ आिद मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...