पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सफलता:सीएम योगी के नाम पर डीएम, आईजी, डीआईजी से ढाई करोड़ ठगने वाला युवक मुसाबनी से धराया

घाटशिला3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पुलिस अपने साथ ले गई लखनऊ, मुसाबनी के थानेदार को भी दिखाया था धौंस

मुसाबनी थाना क्षेत्र के दो नंबर इलाके से उत्तर प्रदेश के अमेठी के रहने वाले अरविंद मिश्रा नामक व्यक्ति को उत्तर प्रदेश की एसटीएफ ने मुसाबनी पुलिस की मदद से रविवार की सुबह 9 बजे गुप्त सूचना के आधार पर थाना के समीप बेकरी के पास से गिरफ्तार कर लिया। अरविंद मिश्रा पर प्रतापगढ़ में कांड संख्या 908/20 में आईपीसी की धारा 419,420 एवं 66 आईटी के तहत लगभग ढाई करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का मामला दर्ज है। यूपी के लखनऊ से एक दिन पूर्व ही एसटीएफ की टीम मुसाबनी पहुंची थी। उसके मोबाइल टाॅवर के लोकेशन पर उसे ट्रेस किया जा रहा था। शनिवार को उसका मोबाइल लोकेशन ट्रेस प. बंगाल बता रहा था। इस वजह से टीम को रात में मुसाबनी ही रूकना पड़ा। सुबह टीम अपने अाॅपरेशन में जुट गई। उसके बाद उसे दबोचा गया।

प्रतापगढ़ से आए एसटीएफ के इंस्पेक्टर विजय कुमार सिंह के नेतृत्व में आठ सदस्यों की टीम इस मामले में मुसाबनी आई थी। उन्होंने बताया कि अरविंद ने यूपी के कई इलाके से मुख्यमंत्री के नाम से ठगी की है। अरविंद मुसाबनी में विगत चार वर्षों से रह रहा है। बादिया गांव के एक युवक से उसने कंपनी क्वार्टर खरीदा था। मुसाबनी से ही रहकर उसने यूपी के बड़े -बड़े अफसरों को ठगा। एसटीएफ के अनुसार इन अफसरों में डीसी, आईजी, डीआईजी रैंक तक के अधिकारी हैं। सीएम योगी के करीबी बताकर उसने ठगी का यह जाल मुसाबनी से बिछाया।

राम मंदिर के नाम पर डेढ़ लाख अकाउंट में मंगवाया

आरोपी ने राम मंदिर निर्माण के नाम पर सीएम हाउस के नाम का उपयोग कर कुछ दिन पूर्व डेढ़ लाख अपने अकाउंट में मंगवाया था। इस राशि में लगभग एक लाख रुपए मंदिर निर्माण फंड में भेज कर शेष पैसे अपने पास रख लिया। यह बात उसने अपनी पत्नी के समक्ष थाना में एसटीएफ के समक्ष बताई। उसकी पत्नी फूट फूट कर रोने लगी और कहा कि मैं इस बदनामी में कैसे जिउंगीं। उसकी पत्नी कैंसर पीड़ित है। उसकी पांच साल की एक बेटी है। उसने बंगाल में भी ठगी करने का अपना जाल बिछा दिया था। उसके पास खड़गपुर से लिया हुआ एक सिम भी मिला है। यह सिम उसने हाल में ही लिया था। मुसाबनी में उसने भाजपा के नेताओं से भी करीबी बनाया। रघुवर सरकार के समय उसने अपने आप को सीएम हाऊस में कार्यरत बताकर लोगों से नजदीकियां बढा़यी। मुसाबनी थाना प्रभारी संजीव झा ने बताया कि उन्हें भी उसने सीएम हाउस का बात कह एक बार रौब झाड़ा था, लेकिन थाना प्रभारी उसके झांसेे में नहीं आए थे।​​​​​​​

गिरफ्तारी के बाद पत्नी को पता चला वह दूसरी बीबी

अरविंद की पत्नी सीमा मिश्रा को अपने पति की गिरफ्तारी होने के बाद पता चला कि वह उसकी दूसरी पत्नी है। मुसाबनी थाना में जब उसे एसटीएफ की टीम ने अरविंद का यूपी में बना आधार कार्ड दिखाया तो वह हैरत में रह गई। दरअसल सीमा मुसाबनी में शादी से पूर्व से ही रहती है। उसके पिता एचसीएल में काम कर कर चुके हैं। जब वह ठगी करने में महारत हासिल कर झारखंड आया तो रांची में उसकी मुलाकात सीमा से हुई। प्रेम प्रसंग में शादी हुई और फिर लगभग 5-6 साल पहले वह मुसाबनी आ गया। मुसाबनी में उसकी पत्नी ने अपने पुराने साथियों को खोज कर दोस्ती का दायरा बढ़ा़या। मुसाबनी से ही रहकर उसने यूपी के बड़े -बड़े अफसरों को ठगा। एसटीएफ के अनुसार इन अफसरों में डीसी, आईजी, डीआईजी रैंक तक के अधिकारी हैं। सीएम योगी के करीबी बताकर उसने ठगी का यह जाल मुसाबनी से बिछाया। वह ठगी का कारोबार लगाता कर रहा था।

बंगाल जाकर वह हो जाता था मालामाल
वह अक्सर बंगाल जाता था। बंगाल से आने के बाद उसके पास पैसे आ जाते थे।सूत्रों की माने तो वह बंगाल दरअसल एटीएम से पैसे की निकासी के लिए जाता था। ये वही ठगी के पैसे थे, जिसे वह यूपी में ठगी कर अपने विभिन्न एकाउंट में पैसे मगंवाया करता था। प्रतापगढ़ से आए एसटीएफ के इंस्पेक्टर विजय कुमार सिंह के नेतृत्व में आठ सदस्यों की टीम इस मामले में मुसाबनी आई थी।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें