पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्यक्रम के तहत दबांकी:सितंबर में जिले में चलाया जाएगा कुष्ठ सर्वेक्षण अभियान, राेगियाें की पहचान कर होगा फ्री इलाज

जादूगोड़ा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

राष्ट्रीय कुष्ठ उन्मूलन कार्यक्रम के तहत दबांकी कुष्ठ आश्रम- पोटका में बुधवार काे एक दिवसीय पीओडी शिविर लगाया। उक्त शिविर का उद्घाटन मुख्य अतिथि जिला कुष्ठ परामर्शी डॉ राजीव लोचन महतो तथा विशिष्ट अतिथि डेमियन फाउंडेशन के डीपीएमआर समन्वयक कामदेव बेसरा व दुर्योधन बागती के द्वारा किया गया। डॉ. राजीव लोचन महतो ने बताया कि कुष्ठ रोग छूने से नहीं फैलता है तथा सभी सरकारी स्वास्थ केन्द्रों में नि:शुल्क दवा तथा परामर्श उपलब्ध हैं।

जिले में होने वाले कुष्ठ सर्वेक्षण अभियान के पहले चरण बारे जानकारी दी। उन्हाेंने बताया कि यह अभियान सितंबर -2021 में पूरे जिले में चलाया जाएगा। सहिया अाैर एक पुरूष कार्याकर्ता दल बना कर घर-घर जाकर लोगों का शारीरीक जांच उपरांत जिस भी व्यक्ति में कुष्ठ रोग के संदिग्ध लक्षण दिखाई देंगे उन्हें नजदीकी स्वास्थ्य केंद्रों रेफर करेंगे।

जल्द इलाज से दिव्यांगता से बच सकते हैं : डॉ. राजीव

डाॅ. राजीव ने बताया कि कुष्ठ रोग का जल्द इलाज कराने से दिव्यांगता से बचाया जा सकता है और इसका इलाज सभी सरकारी अस्पताल में निशुल्क है। उन्होंने कहा- कुस्ठ रोग की पहचान कर जल्द इलाज शुरू करने से दिव्यंगता से बचा जा सकता है। शिविर में 30 जोड़ी एमसीआर चप्पलें तथा 10 सेट सेल्फ केयर किट का वितरण किया गया। दुर्योधन बागती ने बताया सर्जरी से कुष्ठ रोगियों के हाथ, पैर तथा आंखों की दिव्यांगता को दूर किया जाता है। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में भारत सेवाश्रम संघ के डॉ.वर्मा, धनीराम महतो, राखो हरि महतो, सुनीता नाथ, दुर्योधन बागती, रावत गोप, जलोधर पात्रों, सुभाष सरदार एवं रिजवान फाउंडेशन तथा आश्रम के कर्मचारियों का योगदान रहा।

खबरें और भी हैं...