विशेष दिशा-निर्देश:मुसाबनी सीआरपीएफ कैंप के 17 जवानों को डेंगू, नौ को चिकनगुनिया; विभाग ने जारी किया हाई अलर्ट

जमशेदपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मुसाबनी स्थित सीआरपीएफ कैंप के 17 जवानों के डेंगू और 9 जवानों के चिकनगुनिया से पीड़ित होने की पुष्टि हुई है। इसे लेकर मंगलवार को जिला स्वास्थ्य विभाग ने हाई अलर्ट जारी किया है। विशेष दिशा-निर्देश के साथ लोगों को सावधान होने की अपील की गई है। अस्पतालों को भी अलर्ट किया गया है। मुसाबनी कैंप में सोमवार को भी एक सीआरपीएफ जवान डेंगू-चिकनगुनिया से पीड़ित मिला था। इसके बाद कैंप के संदिग्ध जवानों का सैंपल लिया गया था।

डीसी सूरज कुमार ने डेंगू-जेई (जापानी इंसेफ्लाइटिस) से बचाव को लेकर सभी पंचायतों में एंटी लार्वा का छिड़काव व फॉगिंग कराने का निर्देश सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी को दिया है। जिला सर्विलांस पदाधिकारी डॉ साहिर पाल ने बताया- मरीजों की बढ़ती संख्या चिंता का विषय है। इन बीमारियों को लेकर जागरूक होने की भी जरूरत है।

चिकनगुनिया के सामान्य लक्षण

  • लगातार तेज बुखार
  • जोड़ों और मांसपेशियों में अत्यधिक दर्द
  • त्वचा पर लाल चक्क
  • उल्टियां
  • तेज रोशनी से उलझन
  • सिर दर्द और चक्कर

हड्डियों व मांसपेशियों को नुकसान : चिकनगुनिया डेंगू व जापानी बुखार से ज्यादा घातक है। वायरस से पीड़ित व्यक्ति को काटने के बाद मच्छर जितने लोगों को काटेगा, उसके चिकनगुनिया से पीड़ित होने की आशंका है। चिकनगुनिया से बचाव का कोई वैक्सीन या इलाज नहीं है। समय से जांच व इलाज नहीं होने पर चिकनगुनिया से हड्डियों, मांसपेशियों एवं त्वचा को कमजोर करने के साथ नुकसान पहुंचता है।

ऐसे करें बचाव

  • मच्छरों से बचाव के लिए क्रीम या लोशन का इस्तेमाल करें।
  • बाजार में मच्छर मारने के कई प्रोडक्ट्स हैं, उनका इस्तेमाल कर सकते हैं। मच्छरदानी का प्रयोग बेहतर होगा।
  • अपने घर व आसपास कोई खाली बर्तन, गमले में पानी भरने न दें। फिश टैंक, फ्लॉवर पॉट आदि की हफ्ते में कम से कम एक बार सफाईं करें।
  • डेंगू के मच्छर दिन में काटते हैं। इसलिए पूरी आस्तीन के कपड़े पहने।
खबरें और भी हैं...