पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विश्व तंबाकू दिवस पर विशेष:शहर के 4.2 लाख लोग करते हैं तंबाकू का सेवन, धूम्रपान से शरीर का इम्युन सिस्टम हाेता है कमजाेर

जमशेदपुर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • धूम्रपान से कोरोना संक्रमण का खतरा अधिक है

शहर के 14 लाख आबादी में से 4.2 लाख लोग तंबाकू का सेवन किसी न किसी रूप में करते हैं। जिला प्रशासन व तंबाकू नियंत्रण विभाग ने सर्वे के बाद यह अांकड़ा जारी किया है। तंबाकू खाने वाले अधिकतर लोग बीपी, शुगर, हृदय रोग समेत अन्य गंभीर बीमारियों से पीड़ित हाेते हैं। वहीं शहर के मेहरबाई कैंसर अस्पताल के डाॅक्टरों के अनुसार अस्पताल आने वाले मुंह के कैंसर के 50 प्रतिशत मरीज तंबाकू का सेवन करते थे। बाल मजदूर मुक्ति सेवा संस्थान एक सर्वे में कहा गया है कि जिले के 30 हजार से अधिक बच्चे नशे की गिरफ्त में हैं।

तंबाकू से 25 तरह की बीमारियां व 40 तरह के कैंसर होते हैं

बीएनएच के हृदय रोग विशेषज्ञ डाॅ. संतोष गुप्ता ने कहा- तंबाकू के धुएं में 500 हानिकारक गैसें व 7000 जहरीली रासायनिक गैसें होती हैंं। इससे 25 तरह की बीमारियां व 40 तरह के कैंसर हो सकते हैं। दांतों का सड़ना, मसूड़ों का रोग, मुंह से बदबू आना, दांत के बदरंग होना शामिल है। नियमित तंबाकू सेवन से सांस फूलना, टीबी, माइग्रेन, सिरदर्द, असमय बालों का झड़ना व सफेद होना, आंखों में मोतियाबिंद, हृदय की बीमारी व हार्ट अटैक, पेट में फोड़ा, खून की बीमारी, पुरुषों में नपुंसकता आदि हो सकती है। धूम्रपान करने वाली महिलाओं काे कम वजन के बच्चे होना, बच्चों की असमय मृत्यु का डर रहता हैं।

तंबाकू दिवस की थीम यूथ को इससे बचाने पर

जाने-माने फिजिशियन और आईएमए जमशेदपुर के अध्यक्ष डाॅ. उमेश खां ने कहा- धूम्रपान करने वालाें काे कोरोना का खतरा स्वस्थ व्यक्ति की तुलना में अधिक रहता है। क्याेंकि धूम्रपान शरीर का इम्युन सिस्टम कमजाेर कर देता है। इस बार विश्व तंबाकू दिवस की थीम भी इसी पर आधारित हैं। यूथ को कैसे तंबाकू से बचाया जाए, इसकी प्राथमिकता होनी चाहिए।

कैंसर में तंबाकू का योगदान तकरीबन 30 फीसदी

सिविल सर्जन सह तंबाकू नियंत्रण पदाधिकारी डाॅ. एके लाल ने कहा- तंबाकू फेफड़े के रोग, टीबी, क्रॉनिक ऑबस्ट्रेक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) सहित कई गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है। इससे फेफड़े और मुंह का कैंसर भी हो सकता है।आईसीएमआर के आंकड़ों के मुताबिक, भारत में सभी तरह के कैंसर में तंबाकू का योगदान तकरीबन 30 फीसदी है।

खबरें और भी हैं...