पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हीरक जयंती:एनआईटी में 130 करोड़ से बने 160 व्याख्याता हॉल 36 स्मार्ट क्लासेस में 4440 छात्र कर सकेंगे पढ़ाई, आज उद्धाटन

जमशेदपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आज केंद्रीय शिक्षा मंत्री व शिक्षा राज्य मंत्री करेंगे ऑनलाइन उद्घाटन

एनआईटी जमशेदपुर में 130 करोड़ रुपए की लागत से तैयार हीरक जयंती (डायमंड जुबिली) व्याख्याता हॉल का मंगलवार दोपहर 3 बजे केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री (एचआरडी मंत्री) रमेश पोखरियाल निशंक और शिक्षा राज्य मंत्री संजय घोत्रे ऑनलाइन उद्घाटन करेंगे। मौके पर एनआईटी जमशेदपुर के निदेशक प्रो. करुणेश कुमार शुक्ल, भारत सरकार में उच्च शिक्षा सचिव अमित खरे भी रहेंगे। यह जानकारी संस्थान के निदेशक केके शुक्ला ने दी।

2017 में एनआईटी जमशेदपुर के 100 साल होने पर इस हीरक जयंती व्याख्याता हॉल की नींव तत्कालीन सीएम रघुवर दास ने रखी थी। इसमें 160 कमरे व्याख्याताओं के लिए और 36 स्मार्ट क्लासेस अध्ययन के लिए बने हैं। 33 स्मार्ट क्लासेस सामान्य जबकि 3 क्लासेज वर्चुअल सिस्टम से लेस हैं। इसमें 4440 छात्र एक साथ शिक्षा ग्रहण कर सकेंगे। व्याख्याता हॉल में 50 सीटर कैंटीन और एक साथ 1000 वाहनों की पार्किंग की व्यवस्था है। इसके अलावा ओपन एयर ऑडिटोरियम भी होगा।

1000 बेड का बॉयज, 300 बेड का गर्ल्स हॉस्टल बनेगा
एनआईटी कैंपस में चहारदीवारी बनने के बाद प्रबंधन प्रयास कर रही है कि सारे छात्र-फैकल्टी कैंपस में रहें। इसके लिए 1000 बेड का बॉयज,300 बेड का गर्ल्स हॉस्टल बनाया जाएगा। बोर्ड प्रस्ताव को मंजूरी दी है, 100 बेड का हॉस्टल मैरिज रिसर्चर फैकल्टी के लिए भी बनेंगे।

रिसर्चर फैकल्टी के कार्यों से संतुष्ट नहीं
वर्तमान में एमआईटी में 27 विषयों पर रिसर्च जारी है। सात रिसर्च का पेटेंट हुआ, जिसमें 2 का पब्लिकेशन हुआ है। निदेशक ने नाराजगी जताई व रिसर्चर फैकल्टी के प्रति असंतोष जताया। कहा- इस साल से मैं बेस्ट टीचर-बेस्ट रिसर्चर का अवॉर्ड दूंगा, ताकि रिसर्चर इसपर संतोषजनक कार्य करें।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें