जेल भेजा:अमरनाथ गिरोह के 13 अपराधियों पर परसुडीह थाने में केस, दो को उलीडीह पुलिस ने भेजा जेल

जमशेदपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • पटना में इलाजरत अमरनाथ सिंह पर शिकंजा कसने की तैयारी में पुलिस
  • गैंगस्टर अखिलेश के करीबी भाजपा कार्यकर्ता गणेश और राजा शर्मा की हत्या की फिराक में थे पकड़ाए अपराधी

परसुडीह के गदड़ा में गैंगस्टर अखिलेश सिंह के नजदीकी भाजपा कार्यकर्ता मानगो निवासी गणेश सिंह और अपराधी अमरनाथ सिंह के विरोधी गुट के राजा शर्मा की हत्या की योजना बनाते पकड़ाए अपराधियों को रविवार काे जेल भेज दिया गया। पुलिस अब अमरनाथ सिंह पर शिकंजा कसने की तैयारी में है। वर्तमान में अमरनाथ पटना के एक अस्पताल में इलाजरत है। इधर, गिरफ्तार किए गए 12 अपराधियों के खिलाफ परसुडीह थाने में और 3 अपराधियों के खिलाफ उलीडीह थाने में मामला दर्ज किया गया है।

परसुडीह थाने में थानेदार राजेंद्र कुमार दास के बयान पर अमरनाथ सिंह गिरोह के करीबी टिनप्लेट ढाला रोड निवासी रंजीत सिंह उर्फ रंजीत सरदार, सरबजीत सिंह उर्फ छब्बू, मानगो गुरुद्वारा रोड के प्रदीप सिंह, मानगो बैंकुंठनाथ के अमर ठाकुर, मानगो गौड़ बस्ती बैकुंठ नगर के कुणाल गोस्वामी, सिदगोड़ा विजयनगर के राजकुमार सैनी उर्फ बुद्धु सैनी, डिमना रोड शंकोसाई के अमरजीत प्रसाद, खड़गपुर दिवयान पल्ली निवासी गणेश साव, संजय मिश्रा, सौरभ शर्मा उर्फ रिंकू, आकाश महतो, दुबराज नाग के खिलाफ डकैती की योजना बनाते हुए मामला दर्ज किया गया है। वहीं दूसरी उलीडीह थाने में थानेदार मेघनाथ मंडल के बयान पर डिमना बस्ती झारखंड कॉलोनी निवासी आकाश महतो, डिमना बस्ती साधु कॉलोनी के साजन मिश्रा और न्यू उलीडीह टैंक रोड के सौरभ शर्मा के खिलाफ अवैध हथियार के साथ पकड़े जाने का मामला दर्ज कराया है। पुलिस ने गिरफ्तार सभी को जेल भेज दिया है।

अमरनाथ और गणेश सिंह के गिरोह के बीच 2016 में हुआ था गैंगवार

अमरनाथ के प्रतिद्वंदी गणेश सिंह और राजा शर्मा की हत्या करने की अपराधियों की योजना थी। दोनों को मारने के लिए ही अपराधियों ने हथियार जुगाड़ किए थे। अपराधी गणेश सिंह को मारने की पूरी प्लानिंग बना चुके थे। लेकिन, इसके पूर्व ही पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर लिया। अमरनाथ परमवीर सिंह गिरोह का सदस्य है, जबकि गणेश सिंह को गैंगस्टर अखिलेश सिंह का समर्थन है। गणेश और अमरनाथ में पूर्व भी कई बार गैंगवार हो चुका है। अमरनाथ व गणेश सिंह के बीच 2017 में पूर्व एसएसपी अनूप टी मैथ्यू के सामने समझौता हुआ था। इसके पूर्व अमरनाथ और गणेश सिंह के गिरोह के बीच वर्ष 2016 में गैंगवार हुआ था। गणेश ने अमरनाथ के भाई पर हमला किया था। जबकि अमरनाथ ने गणेश के भाई को गोली मारी थी। मानगो में जब अमरनाथ ने जमीन कारोबार में अपना पैर पसारना शुरू किया तो गणेश सिंह ने उसे रोका। इसी कारण दोनों गिरोह के बीच कई बार गैंगवार हुआ था। 2016 में पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार किया। गणेश सिंह राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना युवा का प्रदेश अध्यक्ष है। गणेश सिंह का नाम जमीन काराेबार काे लेकर उलीडीह में विकास सिंह की हत्या के बाद आया था। लेकिन, परिवार वालों ने तत्कालीन एसएसपी से मामले की जांच कराने के बाद मामले से नाम हटवा लिया था।

खबरें और भी हैं...