तीसरी लहर में लापरवाह बने हैं लोग:टाटानगर रेलवे स्टेशन पर कोरोना ब्लास्ट, हर 17 यात्री की जांच में एक कोरोना पॉजिटिव, कुल 108 संक्रमित मिले

जमशेदपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना जांच करते स्वास्थ्यकर्मी व एंबुलेंस में बैठते संक्रमित। - Dainik Bhaskar
कोरोना जांच करते स्वास्थ्यकर्मी व एंबुलेंस में बैठते संक्रमित।
  • संभल जाएं, लगातार चौथे दिन जिले में कोरोना से मौत का सिलसिला जारी, 472 नए संक्रमित मिले
  • सिविल डिफेंस सदस्यों ने दिखाई सूझबूझ, सबको एमजीएम भेजा

टाटानगर स्टेशन परिसर पर शुक्रवार को 1837 यात्रियों की जांच में कुल 108 (हर 17 में एक) यात्री कोरोना संक्रमित मिले। शुक्रवार सुबह 6 बजे से 10 बजे के बीच छपरा एक्सप्रेस, एर्नाकुलम एक्सप्रेस, गीतांजलि एक्सप्रेस और अहमदाबाद एक्सप्रेस से उतरे यात्रियों की कोरोना जांच में 61 संक्रमित पाए गए। इससे स्टेशन पर अफरातफरी का माहौल हो गया।

हालांकि, सिविल डिफेंस के वॉलेंटियरों ने सूझबूझ से काम लिया। उन्होेंने निगरानी करते हुए धीरे-धीरे एबुलेंस से एमजीएम अस्पताल पहुंचाया। भीड़ में कोई संक्रमित भाग न जाए, इसके लिए सतर्क होकर काम किया। इसके बाद रात 9 बजे तक जांच में 47 कोरोना पॉजिटिव मिले। पुरुषोत्तम एक्सप्रेस से उतरे यात्रियों में 6 कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

दूसरी ओर, लगातार चौथे दिन संक्रमितों की मौत का सिलसिला जारी रहा। शुक्रवार को दो संक्रमितों की मौत हुई। मरने वालों में शामिल बिरसानगर निवासी 86 वर्षीय पुरुष का इलाज ब्रह्मानंद अस्पताल में, जबकि मनीफीट निवासी 75 वर्षीय पुरुष टीएमएच में भर्ती थे। दोनों संक्रमित कई गंभीर बीमारी से पीड़ित थे। शुक्रवार को जिले में 7054 सैंपल की जांच में 472 कोरोना पॉजिटिव मिले।

इनमें 8 चिकित्सक, 13 सीआरपीएफ-सीआईएसएफ के जवानों के अलावा 24 परिवार के पूरे सदस्य शामिल हैं। दूसरी ओर शहर के विभिन्न कोविड अस्पतालों में इलाजरत 271 ठीक होकर घर गए। इस तरह अब तक जिले में कुल संक्रमितों की संख्या 61546 पहुंच गई है।

शुक्रवार को कहां-कितने संक्रमित मिले

  • क्षेत्र मरीज
  • कदमा 54
  • मानगो 48
  • टेल्को 45
  • गोलमुरी 33
  • साकची 30
  • सोनारी 21
  • बारीडीह 20
  • बिष्टुपुर 20
  • क्षेत्र मरीज
  • बिरसानगर 17
  • परसुडीह 14
  • जुगसलाई 11
  • बर्मामाइंस 09
  • सिदगोड़ा 06
  • बागबेड़ा 06
  • बर्मामाइंस 04
  • पारडीह 01
  • क्षेत्र मरीज
  • पोटका 28
  • मुसाबनी 22
  • डुमरिया 19
  • घाटशिला 04
  • बहरागोड़ा 04
  • पटमदा 04
  • चाकुलिया 01
  • अज्ञात 47

6865 सैंपल लिए, इनमें 1558 को लैब भेजा
जिले के विभिन्न प्रखंडों से शुक्रवार को कुल 6865 लोगों का सैंपल लिया गया। इसमें आरटी-पीसीआर के 1404 और ट्रूनेट के 154 सैंपल जांच के लिए लैब भेजे गए। इन सैंपल की रिपोर्ट सोमवार तक आने की उम्मीद है।

कोरोना के बढ़ते मामले का दिखा असर, रेलवे राेज 400 टिकट हो रहे रद्द बिक्री 1200 की जगह सिर्फ 700

तीसरी लहर में संक्रमण में तेजी से रेल यात्री डरे-सहमे हैं। संक्रमण से बचने के लिए पहले से तय कार्यक्रमों काे रद्द कर आरक्षण टिकटाें काे कैंसिल करा रहे हैं। पिछले 3-4 दिनों में टाटानगर रेलवे आरक्षण केंद्र टिकट कैंसिल कराने आने वाले की संख्या 3 गुना बढ़ गई है। दिन औसतन 400 लोग टिकट कैंसिल करा रहे हैं।

सामान्य दिनों में औसतन 100-120 लोग ही टिकट कैंसिल कराते हैं। आंकड़ाें के अनुसार चक्रधरपुर रेल डिवीजन के चक्रधरपुर, राउरकेला, झारसुगड़ा जैसे बड़े स्टेशनाें काे मिलाकर राेजाना कुल 900 यात्री टिकट रद्द करा रहे हैं। तीसरी लहर में टाटानगर स्टेशन पर टिकटाें की बिक्री पर भी असर साफ दिखाई दे रहा है। फिलहाल, आरक्षण केंद्र पर राेज औसतन 700 टिकटाें की बिक्री हो रही है। जबकि सामान्य दिनाें में प्रतिदिन करीब 1200 टिकट बिकते हैं। इसका असर रेलवे के राजस्व पर भी पड़ा है।

अस्पताल, संक्रमण बढ़ने से 14 दिनों में 87 लोगों के ऑपरेशन टले
कोरोना संक्रमण की रफ्तार तेज होने के साथ ही जनवरी में अब तक जमशेदपुर के अस्पतालों- नर्सिंग होम में पूर्व निर्धारित 87 ऑपरेशन टल गए हैं। अस्पताल प्रबंधन द्वारा संक्रमण दर कम होने पर ऑपरेशन करने की बात कही जा रही है। सेकेंड वेव में सैकड़ों डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मी संक्रमित हो गए थे। थर्ड वेव के 14 दिनों में ही जिले के 150 से अधिक डॉक्टर संक्रमित हो चुके हैं।

शहर में कहां कितने ऑपरेशन टाले गए

  • एमजीएम हॉस्पिटल 43
  • टाटा मेन हॉस्पिटल 19
  • सदर हॉस्पिटल 08
  • उमा हॉस्पिटल 04
  • मर्सी हॉस्पिटल 05
  • अन्य 09​​​​​​​

​​​​​​​​​​​​​​डाॅ राजन चौधरी बोले, हार्ट, किडनी, हाई ब्लड प्रेशर, शुगर, अस्थमा के मरीजों के लिए कोरोना खतरनाक​​​​​​​

टाटा स्टील मेडिकल सर्विसेज के सलाहकार डाॅ राजन चौधरी ने कहा कि देश दुनिया के साथ जमशेदपुर में कोरोना थर्ड वेव का जो अब तक का ट्रेंड है, वह पूर्व से बीमार लोगों के लिए खतरनाक है। झारखंड में ओमिक्रॉन की पुष्टि अब तक नहीं हुई है, लेकिन जिस हिसाब से संक्रमित बढ़ रहे हैं, इसे ओमिक्रॉन मानकर ही इलाज किया जा रहा है। ऐसे में जिन लोगों को अस्थमा, ब्लड प्रेशर, शुगर, किडनी व हार्ट संबंधी बीमारी है उन्हें ज्यादा सतर्कता बरतनी होगी।

इन बीमारियों के साथ किसी को ओमिक्रॉन संक्रमण होता है तो वह जानलेवा हो सकता है। शुक्रवार को टेली कान्फ्रेंसिंग में डॉ चौधरी ने कहा- संक्रमण से बचाव का सबसे अच्छा तरीका कुछ दिनों के लिए खुद को सबसे अलग रखना है। साथ ही ऐसे मरीजों को डॉक्टरों द्वारा बताई गई दवा का नियमित रूप से सेवन करना चाहिए। जिन मरीजों को दूसरी बीमारियां होती हैं उन्हें कोरोना वायरस काफी प्रभावित करता है। पहली-दूसरी लहर में भी यह ट्रेंड देखा गया है जो इस बार भी जारी है।

खबरें और भी हैं...