पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जुलाई बहुत रुलाई:कोरोना अब ज्यादा आक्रामक, पहली बार 26 साल के युवक ने दम तोड़ा...महीने के अंतिम दिन पांच लोगों की मौत हुई

जमशेदपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • क्योंकि...जून में एक भी मौत नहीं, जुलाई में 37 की गई जान

संतोष कुमार मिश्र, कोरोना काल में जुलाई शहरवासियों को बहुत रुलाई। महीने के अंतिम दिन पांच लोगों की मौत हुई। जबकि महीने के 31 दिन में 37 लोगों ने जान गई। जिले में देखें तो जून में कुल 397 मरीज मिले, लेकिन मौत शून्य रही। वहीं जुलाई में 1518 पाॅजिटिव मिले और 37 की मौत हुई। पहली बार 26 साल के युवक की कोरोना से मौत हुई। वह कदमा भाटिया बस्ती का रहने वाला था। दोनों किडनी खराब होने पर टीएमएच में था।

डाॅक्टरों के मुताबिक युवक नशे का आदी था, उसकी किडनी फेल हो गई थी। इससे इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि वायरस तेज हुआ है। यूं भी देखें तो पूर्वी सिंहभूम में संक्रमण पहले से बढ़ा है। जून के अंतिम दो सप्ताह से ही वायरस का आक्रमण तेज हुआ है। यही वजह है कि मरीजों के ठीक होने में अब ज्यादा समय लग रहा है। जून तक मरीज औसतन 10 दिन में ठीक हाे रहे थे, जुलाई के चौथे सप्ताह में यह बढ़कर 24 दिन हो गया है। इससे अस्पतालों पर लोड बढ़ रहा है। टीएमएच में इलाजरत कदमा के दंपती 15 दिन में स्वस्थ हुए। यानी पहले 8-10 दिन का समय लग रहा।

रिकाॅर्ड 1106 एक्टिव केस
वायरस के बढ़ते असर से रिकवरी रेट घटा है। जून की तुलना में जुलाई में रिकवरी रेट में 35 प्रतिशत की गिरावट आई। 30 जून को जिले का रिकवरी रेट 55.4 प्रतिशत था। अब घटकर 37.29 है। वहीं, 30 जून को जिले में एक्टिव केस 166 और ठीक हो चुके मरीजों की संख्या 231 थी, जुलाई अंत में जिले में एक्टिव केस 1106 है।

नेचर बदल रहा वायरस : डाॅ. एसी अखौरी

एमजीएम मेडिकल काॅलेज के पूर्व प्रिंसिपल सह माइक्रोबायोलाॅजी के प्रोफेसर डाॅ. एसी अखौरी कहते हैं कि राज्य में मध्य जून तक वायरस की आक्रामकता कम थी। लेकिन पिछले करीब एक माह से इसका रूप बदल गया है। मरीजों में अलग-अलग लक्षणों का पता चलने लगा है। वायरस मरीजों की सांसों से लेकर भूख पर भी असर डाल रहा है।

गंभीर मरीजों को खतरा ज्यादा : डाॅ. उमेश खान

आईएमए जमशेदपुर शाखा के अध्यक्ष डाॅ. उमेश खान कहते हैं कि कोरोना से गंभीर मरीजों को अधिक खतरा है। वायरस की आक्रामता की वजह से मौत का आंकड़ा बढ़ा है। डॉ खां ने कहा कि मौत के पीछे कोरोना तो परोक्ष कारण है। लेकिन प्रत्यक्ष कारण और भी है। जिसमें सबसे पहला है उम्र, उसके बाद डायबिटीज, हार्ट डिजीज, ब्लड प्रेशर व ओबेसिटी भी महत्वपूर्ण कारण है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। इस समय ग्रह स्थितियां आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही हैं। आपको अपनी प्रतिभा व योग्यता को साबित करने का अवसर ...

और पढ़ें