पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोविड-19:कोरोना ने फिर डराया, 17 दिन बाद अचानक मिले 348 पॉजिटिव; 5 मौतें

जमशेदपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चेकिंग करते पुलिसकर्मी - Dainik Bhaskar
चेकिंग करते पुलिसकर्मी
  • शहर में राहत तो गांवों की ओर बढ़ा संक्रमण, कुल मरीजों में 60% ग्रामीण
  • मृतकों में मानगो के 3,जुगसलाई और सोनारी का एक-एक निवासी
  • 2 जून से 7 जून तक पॉजिटिविटी रेट 2 प्रतिशत से भी नीचे रही

जिले में कोरोना संक्रमण एक बार फिर बढ़ा है। करीब 10 दिन से एक फीसदी से कम पॉजिटिविटी रेट से नए मरीज मिलने से राहत महसूस कर रहे लोगों के लिए मंगलवार का दिन अच्छा नहीं रहा। मंगलवार को 4402 सैंपल की जांच में 348 संक्रमित (7.90 फीसदी पॉजिटिविटी रेट) मिले। इसके पहले 18 मई 2021 को 10.06 की दर से पॉजिटिव मिले थे। उसके बाद पॉजिटिविटी रेट 7 फीसदी से अधिक नहीं हुई थी। 2 जून से 7 जून तक पॉजिटिविटी रेट 2 फीसदी से भी नीचे रही।

मंगलवार को मिले 348 कोरोना पॉजिटिव में शहरी क्षेत्र के 146 (41 फीसदी) मरीज शामिल हैं। शेष 59 फीसदी ग्रामीण इलाकों से हैं। इसके साथ जिले में कुल संक्रमितों की संख्या 50958 पहुंच गई है। इस तरह शहर के बाद अब ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण में तेजी आई है। इधर, मंगलवार को 5 मरीजों की मौत भी हुई। जिले में ल मृतकों की संख्या बढ़कर 1042 पहुंच गई है। इससे पहले 26 मई को जिले में कोरोना से 24 घंटे में पांच मरीजों की मौत हुई थी। इसके बाद लगातार मरने वालों की संख्या 1-3 के बीच रही थी। लेकिन 13वें दिन फिर 24 घंटे में 5 कोरोना संक्रमितों की मौत से स्वास्थ्य विभाग के साथ जिला प्रशासन सकते में आ गया है।

अब ट्रिपल-टी की रणनीति अपनाएगा जिला प्रशासन, सीएस-सर्विलांस टीम में मंत्रणा

संक्रमितों की संख्या में अचानक इजाफा होने के बाद देर रात सिविल सर्जन व जिला सर्विलांस विभाग की टीम ने इस पर चर्चा की। विभाग ग्रामीण क्षेत्रों में ट्रिपल-टी (टेस्टिंग, ट्रेसिंग व ट्रीटमेंंट) रणनीति को कारगर ढंग से लागू करने की योजना बना रहा है। अब तक जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में पर्याप्त जांच नहीं हुई है। लेकिन कुछ दिनों से जिला प्रशासन का फोकस ग्रामीण क्षेत्रों पर है और इसी वजह से नए मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है।

शहर में काेराेना जांच के लिए 14 टीमों का गठन, अलग-अलग जगहों पर लेंगी सैंपल

शहर में कोरोना संक्रमण की दर में काफी कमी आई है। इसके बावजूद लाेगाें की काेराेना जांच पहले की तरह जारी रहेगी। इसके लिए प्रशासन ने छह स्थाई जांच केंद्र बनाए हैं। वहीं 14 टीमाें का गठन कर तीनाें नगर निकायाें के विभिन्न इलकाें में तैनात किया गया है। ये टीमें अलग-अलग स्थानों पर जाकर लाेगाें के सैंपल लेंगी। प्रत्येक टीम को राेज 50-50 आरटीपीसीआर व आरएटी टेस्ट के लिए सैंपल लेना है।

खबरें और भी हैं...