पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डेंगू का खतरा:जुस्को कमांड एरिया के 1550 मकानों में मिले डेंगू के लार्वा, कोरोना के बीच डेंगू-मलेरिया का खतरा

जमशेदपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • डेंगू के लक्षण- बुखार आना, ठंड लगना, मांसपेशियों-जोड़ों में दर्द, खून में प्लेटलेट्स की कमी।

कोरोना संक्रमण के बीच शहर में मच्छर-जनित बीमारियों का प्रकोप बढ़ रहा है। शहर में नागरिक सुविधाएं मुहैया कराने वाली जुस्को (अब टाटा स्टील यूटिलिटी एंड इंफ्रास्ट्रक्चर सर्विसेज लिमिटेड) कमांड क्षेत्र के 1550 घरों में डेंगू के लार्वा मिले हैं। जुस्को के स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने लारवा को नष्ट कर दिया है। जुस्को कमांड क्षेत्र के बाहर की स्थिति और भयावह हो सकती है, क्योंकि वहां की सफाई व्यवस्था और भी दयनीय है।

जुस्को की टीम हर साल मानसून से पहले कमांड एरिया के घरों, क्वार्टरों और फ्लैटों में जाकर डेंगू की जांच करती है। इस वर्ष अप्रैल से जून के बीच जुस्को स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों को 1550 घरों में डेंगू के लार्वा मिले। मच्छर जनित बीमारियों में डेंगू और मलेरिया सबसे खतरनाक हैं। डेंगू में तेज बुखार के साथ-साथ शरीर में प्लेटलेट का स्तर तेजी से कम होता है। कई बार मरीज की जान भी चली जाती है।

बचाव का अचूक उपाय पानी जमा न होने दें

डेंगू के मच्छर साफ पानी में पनपते हैं। एक चम्मच साफ पानी में ही डेंगू मच्छर के काफी मात्रा में अंडे हो सकते हैं। मानसून में घरों के खाली कंटेनर आदि में पानी जमा होने पर ये लार्वा पनपने लगते हैं। इसलिए हमें अपने घर व आसपास वैसे स्थानों की सफाई पर ध्यान देना चाहिए, जहां पानी जमा रह सकता है। हर शहरवासी सप्ताह में एक दिन सिर्फ आधे घंटे अपने घर व आसपास की सफाई कर जमा पानी फेंक दें तो लार्वा को समाप्त किया जा सकता है।
-डाॅ साहिर पाल, एसीएमओ, पूर्वी सिंहभूम

खबरें और भी हैं...