यौनशोषण मामले में जेल में बंद:पूर्व सीडब्ल्यूसी अध्यक्ष पुष्पा को हाइकोर्ट से मिली जमानत

जमशेदपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुष्पारानी तिर्की - Dainik Bhaskar
पुष्पारानी तिर्की
  • जेल में बंद पुष्पारानी तिर्की आज बेल बांड भरने के बाद हाेगी रिहा

टेल्को के मदर टेरेसा वेलफेयर ट्रस्ट में रहने वाली दो नाबालिग के यौनशोषण मामले में जेल में बंद सीडब्ल्यूसी की पूर्व अध्यक्ष पुष्पा रानी तिर्की को झारखंड हाइकोर्ट ने साेमवार काे जमानत दे दी। जमानत के पेपर जमशेदपुर काेर्ट पहुंच चुके हैं। निचली अदालत में मंगलवार को बेल बांड की प्रक्रिया पूरी होने के बाद पुष्पा के रिहा होने की उम्मीद है। कोर्ट ने रिहाई के बाद पुष्पारानी को शहर नहीं छाेड़ने और केस के अनुसंधान में बाधा नहीं डालने की शर्त रखी है।

इस मामले में आरोपी ट्रस्ट की वार्ड इंचार्ज गीता देवी व उसके बेटे आदित्य सिंह की जमानत याचिका हाइकोर्ट में दो दिन बाद दायर की जाएगी। ट्रस्ट के संचालक हरपाल सिंह थापर की 17 जुलाई को जेल में संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई थी। अधिवक्ता जीतेंद्र नाथ उपाध्याय और विमल कुमार पांडे ने कहा- पुष्पा रानी तिर्की के खिलाफ काेई सबूत नहीं मिला, इस कारण कोर्ट ने जमानत दे दी।

दाे बच्चियों ने संचालक पर शोषण का लगाया था अरोप
मदर टेरेसा ट्रस्ट की दाे बच्चियां 5 जून को भाग गई थी। पुलिस ने 6 जून काे दोनों काे बिरसानगर से बरामद किया। दोनों ने पुलिस के समक्ष ट्रस्ट के संचालक हरपाल सिंह थापर पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। बच्चियाें के बयान पर पुलिस ने हरपाल सिंह, पुष्पारानी तिर्की, टोनी डेविड, गीता देवी और आदित्य सिंह के खिलाफ केस दर्ज किया था। पुलिस ने हरपाल, पुष्पा, गीता और आदित्य को सिंगरौली से गिरफ्तार किया था।

खबरें और भी हैं...