खुलासा:भाड़े पर कार लेकर 2 लाख में रखते थे गिरवी सरगना समेत चार गिरफ्तार, 14 कार बरामद

जमशेदपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मामले का खुलासा करती पुलिस। - Dainik Bhaskar
मामले का खुलासा करती पुलिस।
  • पूछताछ के लिए आरोपियों को रिमांड पर लेगी आजादनगर पुलिस
  • गिरोह के सदस्याें ने बंगाल, बिहार व ओडिशा में भी कई कारें बंधक रखी हैं

भाड़े पर कार को लेकर गिरवी रख लोगों के साथ धोखाधड़ी करने वाले गिरोह के मुख्य सरगना समेत 4 बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आजादनगर, मानगो व उलीडीह पुलिस ने मामले की जांच की। इस दौरान गिरवी कर रखी 14 कारें पुलिस ने विभिन्न जगहों से बरामद की।

कुछ कारें राज्य के बाहर भी मिलीं। हालांकि अभी सिर्फ 4 कार (जेएच 05 सीबाई 1096, जेएच 05 सीयू 5098, जेएच 05 एएन 0707 व जेएच 05 सीडब्यू 1066) के ही दावेदार मिले हैं। अन्य कारों का सत्यापन पुलिस करा रही है। पकड़ाए आरोपियों में मुख्य सरगना परसुडीह निवासी संजय पाल उर्फ बापी, सोनारी आदर्श नगर निवासी रामचंद्र दुबे, सिदगोड़ा ग्वाला बस्ती निवासी अजय कुमार व कपाली निवासी मो. गुलशाद उर्फ इमरान को जेल भेजा है।

बापी पूर्व में परसुडीह थाना से धोखाधड़ी के मामले में जेल जा चुका है। सोमवार को आजादनगर थाना में पटमदा डीएसपी सुमित कुमार ने मामले का खुलासा किया। आजादनगर थाना प्रभारी नरेश प्रसाद सिन्हा, मानगो थाना प्रभारी विनय कुमार, उलीडीह थाना प्रभारी मेघनाथ मंडल आदि थे।

60 लोगों से की है धोखाधड़ी: गिरोह के सदस्यों ने शहर व आसपास करीब 60 लोगों से धोखाधड़ी की है। पश्चिम बंगाल, बिहार व ओडिशा में भी कई कारें आरोपियों ने बंधक पर दी हैं। थाना प्रभारी नरेश प्रसाद सिन्हा ने कहा- जेल भेजे गए आरोपियों को दोबारा रिमांड पर लेकर पुलिस पूछताछ करेगी। संजय पूर्व में भी परसुडीह थाना से धोखाधड़ी मामले में जेल जा चुका है।

डीएसपी बोले- प्रतिष्ठानों भाड़े पर देकर कार को रख देते थे गिरवी

डीएसपी ने कहा- गिरोह के सदस्य विभिन्न प्रतिष्ठानों में कार भाड़े पर लगाने के नाम पर लोगों से लेते थे। 15-20 हजार रुपए प्रतिमाह लोगों को भाड़ा देते थे। दो माह तक भाड़ा देने के बाद बदमाशों ने भाड़ा देने बंद कर दिया। पुिर डेढ़ से दो लाख रुपए में कार गिरवी पर देते थे। जाकिरनगर के मोइन की कार भी ने भाड़ा पर ली थी। दो माह तक 15 हजार रुपए दिए, जिसके बाद पैसे देना बंद कर दिया। मोइन ने 12 दिसंबर को केस किया था। जांच खुलासा हुअा।

खबरें और भी हैं...