पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

उल्लंघन:सरकार का आदेश सिर्फ ट्यूशन फी लें, स्कूल वसूल रहे सभी प्रकार के शुल्क

जमशेदपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहर के प्राइवेट स्कूलों के लिए सरकारी कायदे-कानून मजाक

राज्य सरकार के 25 जुलाई के आदेश के मुताबिक निजी स्कूलों को लाॅकडाउन अवधि के दौरान का केवल ट्यूशन फीस लेना है, लेकिन शहर के निजी स्कूल पूरी फीस ले रहे हैं। ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों से फीस का भुगतान करने का दबाव अभिभावकों पर डाला जा रहा है। काशीडीह हाई स्कूल ने तो अलर्ट भेजकर पूरी फीस की मांग की है। इस स्कूल में तीन महीने का एक साथ शुल्क लिया जाता है। ऐसी ही स्थिति राजेन्द्र विद्यालय की भी है, ऑनलाइन पेमेंट पर पूरी फीस का बिल आता है।

ट्यूशन फीस के बदले पूरी फीस अभिभावकों को देनी पड़ रही है। कारमेल जूनियर काॅलेज, सेक्रेर्ड हार्ट काॅन्वेंट जैसे स्कूल तो एक साथ एक वर्ष का फीस ले लेते हैं, सैकड़ों अभिभावकों ने पहले ही फीस जमा कर दी है। अधिकतर निजी स्कूलों में प्रति महीने लगने वाले कुल मासिक फीस का लगभग 70-75 प्रतिशत ट्यूशन फीस होता है। इसके अलावे स्कूल मेंटेनेंस फीस, लाइब्रेरी फीस, एक्टिविटी फीस, डायरी फीस, परीक्षा फीस जैसे अतिरिक्त शुल्क भी जोड़ते हैं। मालूम हो कि शहर में सीबीएसई बोर्ड और आईसीएसई बोर्ड के 65 स्कूल हैं। इन स्कूलों में लगभग 1.80 लाख बच्चे पढ़ाई करते हैं।

विद्यार्थियों से ली गई ज्यादा राशि एडजस्ट कर दी जाएगी 
स्कूलों को केवल ट्यूशन फीस लेनी है। बावजूद ऐसा हुआ है तो ज्यादा ली गई राशि एडजस्ट हो जाएगी। अभिभावक केवल ट्यूशन फीस ही दें। 
-बेली बोधनवाला, अध्यक्ष, जमशेदपुर प्राइवेट अनएडेड स्कूल एसोसिएशन

सरकार के आदेश के बाद भी स्कूल ने पूरी फीस वसूली

सरकारी आदेश के बावजूद स्कूल ने पूरी फीस वसूल कर ली। केवल ट्यूशन फीस भुगतान का विकल्प नहीं दिख रहा है। यह अभिभावकों के  साथ छल करने जैसा है। -सुदेश शर्मा, अभिभावक। 
 

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि के लिए ग्रह गोचर बेहतरीन परिस्थितियां तैयार कर रहा है। आप अपने अंदर अद्भुत ऊर्जा व आत्मविश्वास महसूस करेंगे। तथा आपकी कार्य क्षमता में भी इजाफा होगा। युवा वर्ग को भी कोई मन मुताबिक क...

और पढ़ें