युवाओं को अवसर:जिले के प्राइमरी स्कूलों में शिक्षकाें के 4589 में से 1193 पद रिक्त, जल्द शुरू होगी बहाली

जमशेदपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 6 साल बाद सरकारी स्कूलाें में हाेगी नियुक्ति, पिछली बार वर्ष 2015 में हुई थी

राज्य के सरकारी स्कूलाें में शिक्षक बनने की चाह रखने वाले युवाओं के लिए अच्छी खबर है। सरकार शिक्षकाें की बहाली की प्रक्रिया जल्द शुरू करेगी। इसके लिए सरकार ने सभी जिलाें में प्रारंभिक विद्यालयाें में शिक्षकाें के स्वीकृत कुल पदाें, कार्यरत व रिक्त पदाें की जानकारी मांगी है।

विभाग का आदेश मिलने के साथ ही पूर्वी सिंहभूम जिला शिक्षा अधीक्षक कार्यालय ने रिक्तियाें की सूची तैयार कर ली है। इसके तहत जिले के प्रारंभिक विद्यालयाें में शिक्षकाें के स्वीकृत 4589 पदाें में से 1193 पद रिक्त हैं।

यानी 26 प्रतिशत पद रिक्त हैं। करीब 74 प्रतिशत शिक्षकाें के भराेसे बच्चाें की पढ़ाई चल रही है। जिले में इससे पहले वर्ष 2015 में शिक्षकाें की नियुक्ति हुई थी। इसके बाद शिक्षक ताे सेवानिवृत्त हाेते गए लेकिन नई नियुक्तियां नहीं हुईं, जिससे रिक्तियाें की संख्या बढ़ती गई। रिक्त पदाें की संख्या अधिक हाेने के कारण इस बार अभ्यर्थियाें काे ज्यादा अवसर मिलेगा। इस बार नियुक्ति परीक्षा के आधार पर हाेगी या मेरिट पर, सरकार ने अब तक स्पष्ट नहीं किया है। लेकिन प्रारंभिक विद्यालयाें में शिक्षक बनने के लिए टेट पास हाेना जरूरी हाेगा। नियुक्ति सरकार की ओर से बनाई गई नई नियमावली के आधार पर हाेगी।

जिले के प्रारंभिक विद्यालयाें में शिक्षकाें के रिक्त पदाें की स्थिति

कुल पद 4589

कार्यरत 3396

रिक्त 1193

प्राथमिक विद्यालय में कुल पद: 3626
कार्यरत: 2838
रिक्त : 788

मध्य विद्यालयाें में कुल पद: 963
कार्यरत: 558

रिक्त : 405

प्रखंडवार शिक्षकाें के रिक्त पदाें की स्थिति

जमशेदपुर 265 घाटशिला 130 धालभूमगढ़ 90 गुड़ाबांदा 99 बहरागाेड़ा 211 चाकुलिया 217 मुसाबनी 145 पटमदा 85 बाेड़ाम 80 पाेटका 316 पटमदा 113

सभी जिलाें से स्कूलाें में शिक्षकाें के रिक्त पदाें की जानकारी मांगी गई है। डाटा आने के बाद ही राज्य में रिक्त पदाें की सही जानकारी मिलेगी। इसके बाद राेस्टर तैयार कर नियुक्ति होगी। -राजेश शर्मा, प्रधान शिक्षा सचिव

शिक्षकों की कमी दूर की जाएगी, सभी स्कूलों में आधारभूत संरचना का हाेगा विकास: शिक्षा सचिव

स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के प्रधान सचिव राजेश शर्मा ने बुधवार को साकची गर्ल्स हाईस्कूल का औचक निरीक्षण किया। स्मार्ट क्लास में बच्चाें से इसके फायदाें के बारे में बात कीा। स्कूल में स्कूल में शिक्षकों के 12 पद स्वीकृत हैं, लेकिन 5 ही कार्यरत हैं। सचिव ने कहा- स्कूल में कमराें की संख्या भी कम है। बेहतर शिक्षा के लिए दाेनाें का हाेना बहुत जरूरी है। जिले के सभी सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की कमी दूर की जाएगी। आधरभूत संरचना भी विकसित होगी। माैके पर डिप्टी डायरेक्टर शिवेंद्र कुमार भी माैजूद रहे।

सीडब्ल्यूएसएम और तीन एसीपी प्रभारी का 10% वेतन काटा

स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के प्रधान सचिव राजेश शर्मा ने बुधवार काे सर्किट हाउस में समीक्षा बैठक की। इसमें काेल्हान के तीनाें जिलाें के डीईओ-डीएसई व शिक्षा परियाेजना के पदाधिकारी शामिल हुए। कार्य में शिथिलता बरतने में प्रधान सचिव ने जमशेदपुर के तीन एसीपी (असिस्टेंट कंप्यूटर प्रोग्रामर) और सीडब्ल्यूएसएम प्रमुख के वेतन में 10 प्रतिशत कटाैती का आदेश दिया।

कार्याें काे समय पर निष्पादित नहीं करने पर पश्चिमी सिंहभूम के डीएसई को फटकार लगाई। सचिव ने कहा-सभी डीईओ-डीएसई नियमित रूप से स्कूलों का निरीक्षण करें। शिक्षकों काे हर हाल में ऑनलाइन हाजिरी बनानी है। ऐसा नहीं करने वाले का वेतन राेका जाए। बच्चाें की उपस्थिति काे भी ई-विद्यावाहिनी से जाेड़ा जाए।

खबरें और भी हैं...