बड़ी साजिश नाकाम:दलमा में नक्सलियों ने सीरीज में बिछा रखे थे 14 शक्तिशाली बम, रांची के बमनिरोधक दस्ते ने किए निष्क्रिय

जमशेदपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बोड़ाम के कोंकाडसा में बम निरोधक दस्ते ने आईईडी को ब्लास्ट कर निष्क्रिय किया। - Dainik Bhaskar
बोड़ाम के कोंकाडसा में बम निरोधक दस्ते ने आईईडी को ब्लास्ट कर निष्क्रिय किया।

पुलिस ने दलमा में नक्सलियों की एक बड़ी साजिश को नाकाम किया है। दलमा में सर्च ऑपरेशन चलाने वाले जवानों को नुकसान पहुंचाने के मकसद से नक्सलियों द्वारा लगाए गए 14 आईईडी (बम) बरामद किया गया। शनिवार को रांची से आए बमनिरोधक दस्ते ने आईईडी को ब्लॉस्ट कर इसे निष्क्रिय किया। नक्सलियों ने बोड़ाम थाना क्षेत्र के कोंकोडसा गांव से दलमा जाने वाली कच्ची सड़क पर अलग-अलग जगह 8 सिलेंडर बम और 6 केन बम सीरीज में लगा रखे थे। एक बम का वजन 6 से 8 किलोग्राम था।

एसएसपी डॉ एम. तमिलवाणन के अनुसार नक्सलियों द्वारा पुलिस को उड़ाने के लिए काफी पहले यहां बम लगाया गया था। शुक्रवार को दलमा में नक्सलियों के खिलाफ सर्च ऑपरेशन के दौरान पुलिस को सड़क किनारे कुछ तार दिखे। जांच कराई गई तो 14 जगहों पर आईईडी बम पाया गया। बम को निकालने के बाद वहीं डिफ्यूज कर दिया गया। इस दौरान 30 फीट से अधिक ऊंचाई तक धुएं का गुब्बार उठा। पुलिस आसपास के ग्रामीणों से पूछताछ कर रही है। सर्च अभियान भी तेज कर दिया है।

तार से जुड़े केन व सिलेंडर बम।
तार से जुड़े केन व सिलेंडर बम।

दलमा में सचिन का दस्ता सक्रिय डेढ़ दर्जन सदस्य चल रहे साथ
सांसद सुनील महतो हत्याकांड समेत अन्य मामलों में आरोपी हार्डकोर नक्सली रामप्रसाद मांडी उर्फ सचिन दलमा में अपने दस्ते के साथ सक्रिय है। कुछ दिन पूर्व ही सचिन को अपने दस्ते के साथ बोड़ाम के सटकटिया जंगल में देखा गया था। इस दस्ते में सचिन की पत्नी मीता, नक्सली श्याम सिंकू, पत्नी बेला सरकार समेत 15 से 16 नक्सली शामिल हैं। बताया जाता है कि सांसद की हत्या के दौरान उनके अंगरक्षक से लूटे गए इंसास अब भी सचिन के पास है। सचिन पर सरकार ने 25 लाख रुपए का ईनाम रखा है। वह पटमदा प्रखंड का रहने वाला है।

नक्सलियों का मनोबल टूटेगा
दलमा में 14 आईईडी बम बरामद हुए हैं। सभी बम को डिफ्यूज कर दिया गया है। पुलिस को नुकसान पहुंचाने के लिए नक्सलियों द्वारा बम लगाया गया था। एक साथ 14 आईईडी बम मिलना पुलिस के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। बम बरामद होने से नक्सलियों का मनोबल टूटेगा।
-डॉ एम. तमिलवाणन, एसएसपी