अच्छी पहल:शादी समारोह या श्राद्ध में बस 11 लोग ही होंगे शामिल, भोज और गाना-बाजा पर पाबंदी

जमशेदपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • 2.50 लाख आबादी वाले भूमिज समाज की अच्छी पहल

कोल्हान प्रमंडल के 2.50 लाख आबादी वाले आदिवासी भूमिज समाज ने कोरोनाकाल में अच्छी पहल की है। संक्रमण के बढ़ते मामले को देखते हुए स्थिति सामान्य होने तक समाज के शादी और श्राद्ध समारोह में 11 से ज्यादा लोग इकट्‌ठा नहीं होंगे। सामूहिक भोज भी नहीं करेंगे। विवाह में गाना-बाजा पर पाबंदी होगी। समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष पाइको सिंह की अध्यक्षता में गुरुवार को वर्चुअल मीटिंग में यह निर्णय लिया गया।

राष्ट्रीय महासचिव दिनेश सरदार ने कहा कि विवाह के पहले संभव हो तो समारोह में शामिल होने वाले सभी लोगों का कोरोना टेस्ट कराया जाएगा। स्थिति सामान्य होने पर यह आदेश निरस्त कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि कोरोना को लेकर समाज में जागरूकता फैलाने की जरूरत है। समाज के निर्णय को शत प्रतिशत लोग मानते हैं।

समाज के अन्य निर्णय

  • शादी में दूल्हा, दूल्हे के मामा-मामी, बहनोई, भाभी (हिली), दो डांड़िया (अगुवा), दूल्हे का पिता, गांव के दो गांवला (कुटुंब), दूल्हे का पिसा (मेहमान) शामिल होंगे।
  • वापसी में दूल्हा पक्ष के साथ दुल्हन और लुगदी (दुल्हन की साथी) ही साथ होंगी।
  • दूल्हा-दुल्हन के घर में जल-माटी लाने से लेकर विधि बनाने और विवाह संपन्न कराने में 10 लोग शामिल होंगे।
  • गांव में कुटुंबों के लिए दिया जाने वाला प्रीतिभोज अभी स्थगित रहेगा।
  • श्राद्ध कार्यक्रम में जिनकी जरूरत होगी, सिर्फ वे ही बुलाए जाएंगे। अभी भोज स्थगित रहेगा।
खबरें और भी हैं...