पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विश्व पुस्तक दिवस:लॉकडाउन के दौरान मानसिक ताैर पर स्वस्थ रहने के लिए पढ़ें किताब, डिप्रेशन से बचेंगे

जमशेदपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • सहयोग की विचार शृंखला में विद्वानाें ने दी अपनी राय

बहुभाषीय साहित्यिक संस्था सहयोग ने इस वर्ष विश्व पुस्तक दिवस पर काव्य गोष्ठी और विचार शृंखला का आयोजन किया। इसमें विद्वानाें ने लाॅकडाउन में अच्छी किताबें पढ़ने की सलाह दी। ऑनलाइन कार्यक्रम में डॉ. जूही समर्पिता ने कहा कि पिछले साल लॉकडाउन के दौरान कई पुस्तकों को पढ़ने का माैका मिला, क्योंकि अच्छी पुस्तकें मानसिक स्वास्थ्य के लिए अत्यंत आवश्यक होती हैं। इसके कारण न कोई अवसाद हुआ और न ही नकारात्मक विचार आए।

डाॅ. मनीला कुमारी ने कहा- पुस्तकें सदैव उपयोगी रही हैं। पद्मा मिश्रा और अपर्णा संत सिंह ने कविता पाठ किया। माधुरी मिश्रा ने कहा- वेद रामायण-महाभारत जैसी किताबें ज्ञान का आलोक फैलाती है। डाॅ. निधि श्रीवास्तव ने पुस्तकों पर मनोवैज्ञानिक तर्कों के आधार पर अपनी बात रखी और कहा कि मनोवैज्ञानिक दृष्टिकोण से पुस्तकें पठन पाठन का अभिन्न हिस्सा रही है, जो उसे दूसरे प्राणियों से भिन्न बनाती हैं। कर्यक्रम में विद्या तिवारी, डॉ. आशा गुप्ता, डॉ. रागिनी भूषण, डॉ. मुदिता चंद्र, डॉ. शकुंतला पाठक, डॉ. कल्याणी कबीर, कृष्ण सिन्हा, इंदिरा तिवारी शरीक हुईं।

खबरें और भी हैं...