पांच घंटे थाना में पड़ी रही लाश:बर्मामाइंस में एफसीआई के ट्रक ने टाटा मोटर्स के रिटायर्ड कर्मी को कुचला, मौत

जमशेदपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हादसे के बाद शव के पास रोते-बिलखते परिजन। - Dainik Bhaskar
हादसे के बाद शव के पास रोते-बिलखते परिजन।
  • मुआवजे की मांग को लेकर एक घंटे तक परिजन शव के साथ सड़क पर बैठे रहे
  • बेटा भीड़ देख पहुंचा तो पिता की पड़ी थी लाश, परिजनों को किया फोन
  • घर से निकले थे पैदल, 50 हजार मुआवजा राशि पर बनी सहमति, 25 हजार रुपए दिए
  • हादसे के बाद भाग रहे ट्रक चालक का लोगों ने पीछा कर पकड़ा, पिटाई कर पुलिस के हवाले किया

बर्मामाइंस थाना क्षेत्र के एफसीआई गोदाम गोलचक्कर के पास दोपहर ढाई बजे ट्रक की चपेट में आने से टाटा मोटर्स से सेवानिवृत्त कर्मचारी शिबू साहू (65) की मौत हो गई। वो पैदल ही घर से निकले थे। शिबू प्रेमनगर रोड नंबर पांच के रहने वाला हैं। घटना के बाद भाग रहे एफसीआई ट्रक (जेएच05एइ-4021) के चालक को लोगों ने पीछा कर दुर्गा पूजा मैदान के पास पकड़ा। चालक की पिटाई कर पुलिस को सौंप दिया।

इधर, मुआवजा की मांग पर मृतक का बेटा अशोक साहू, बेटी संतोषी समेत कई लोग शव के साथ एक घंटे घटना स्थल पर सड़क पर बैठे रहे। बर्मामाइंस थानेदार राजू ने पहुंचकर लोगों को थाना में ट्रक चालक को बुलाकर मुआवजा दिलाने का आश्वासन देकर शव को थाना ले जाया गया। थाना में एक घंटे बाद ट्रक के मालिक का मुंशी पहुंचा, जहां वार्ता विफल हो गई और शाम 7 बजे तक शव और परिवार के लोग थाना में जमे रहे।

स्थानीय नेताओं ने पुलिस के साथ मिल परिवार वालों को समझाया, लेकिन सभी मुआवजे की मांग पर अड़े हुए हैं। शिबू साहू के दो बेटे और तीन बेटियां हैं। बड़ा बेटा मदन साहू है और छोटा अशोक साहू है। दो बेटियों की शादी हो चुकी है। एक छोटी बेटी संतोषी साहू घर पर है। घटना के बाद परिवार के लोग शव के साथ सड़क पर बैठे थे। रात के नौ बजे मुआवजे पर सहमति बनी है। तत्काल 25 हजार नकद दिए व 25 हजार मंगलवार को देने की बात कही। इस दौरान शव को करीब 5 घंटे तक थाना में ही रखा गया था।

दो बजे घर से निकले थे पिता :बेटे अशोक ने बताया कि मेरे पिता दिन के दो बजे घूमने के लिए निकले थे। ढाई बजे मैं भी घूमते हुए एफसीआई की तरफ गया। वहां पुल पर लोगों की भीड़ लगी थी। मैं भी भीड़ देखकर वहां पहुंचा। पूछने पर कुछ लोगों ने कहा- ट्रक चालक ने किसी व्यक्ति को कुचल दिया है। मैं पास गया तो देखा कि मेरे पिता ही सड़क पर मृत पड़े हैं। मैंने जानकारी घरवालों को दी।

टाटा स्टील में था ठेकाकर्मी, रविवार रात की है घटना इधर, ड्यूटी खत्म कर पैदल घर जा रहे युवक को अज्ञात वाहन ने मारी टक्कर, हुई मौत

आदित्यपुर थाना क्षेत्र के सीआरपीएफ कैंप के पास रविवार देर रात सड़क हादसे में आरआईटी थाना क्षेत्र के मीरुडीह निवासी युवक विकास कुमार (33) की मौत हो गई। विकास टाटा स्टील में ठेका मजदूर था। ड्यूटी खत्म कर वो पैदल घर जा रहा था। इसी दौरान किसी वाहन ने उसे अपने चपेट में ले लिया। पुलिस ने उसे इलाज के लिए एमजीएम अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

सूचना पर विकास के परिजन भी एमजीएम पहुंचे। पोस्टमार्टम के बाद शव का अंतिम संस्कार कर दिया। युवक मूल रूप से बिहार के नवादा का रहने वाला था। मीरुडीह में वो पत्नी शोभा देवी व तीन बच्चों के साथ रहता था। उसकी मौत से पत्नी, बच्चे समेत अन्य परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। इस मामले में थाना में अज्ञात वाहन चालक के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

ऑटो नहीं मिला तो पैदल ही निकला था घर

विकास के पड़ोसी युवक ने कहा- वो टाटा स्टील में मेकेनिकल फीटर था। ड्यूटी कर वो रोजाना ऑटो से घर जाता था। रविवार की रात बारिश के कारण ऑटो नहीं मिला। जिस कारण वो पैदल घर जा रहा था। इसी दौरान किसी वाहन ने उसे अपनी चपेट में ले लिया। परिजनों ने पुलिस से वाहन चालक के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...