कोरोना का कहर / टेस्ट केबिन में हवा का दबाव ज्यादा रखते हैं ताकि वायरस न फैले

The air in the test cabin is kept high so that the virus does not spread.
X
The air in the test cabin is kept high so that the virus does not spread.

  • एमजीएम में ऐसे होती है कोरोना की जांच

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 06:06 AM IST

जमशेदपुर. एमजीएम कॉलेज के मॉल्युकुलर लैब में कोरोना की जांच का काम चल रहा है। कोल्हान के तीन जिले पूर्वी सिंहभूम, सरायकेला-खरसावां और पश्चिम सिंहभूम के अलावे रामगढ़ और हजारीबाग के सैंपल की जांच हो रही है। लैब में डाॅक्टरों के अलावे साइंटिस्ट, टेक्नीशियन और डाटा इंट्री करने वाले कुल 26 लोगों की टीम लगी हुई है। वर्तमान समय में सैंपलिंग कम हो रहे हैं।

इस स्थिति में भी औसतन हर दिन 4- 5 सौ सैंपल की जांच की जा रही है। सैंपल लैब तक पहुंचने के साथ ही जांच की प्रक्रिया शुरू कर दी जाती है। एक सैंपल की जांच में 5 से 6 घंटे लगते हैं। ऑटोमेटिक मशीन के साथ मैनुअली जांच का तरीका लैब में अपनाया जाता है। लैब में जांच कैसे होती है? यह प्रक्रिया भी दिलचस्प है। जांच की पूरी प्रक्रिया अपनाने में सबसे ज्यादा ध्यान सुरक्षा का रखा जाता है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना