• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Jamshedpur
  • The Arrival Of Food Grains Decreased In The City Market, 200 Tons Of Goods Landed, There Was No Talk Of Ending The Movement In The Meeting

प्रस्तावित बाजार शुल्क का विरोध:शहर की मंडी में खाद्यान्न की आवक घटी, 200 टन माल हीउतरा, आंदोलन खत्म करने पर हुई बैठक में नहीं बनी बात

जमशेदपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कृषि उत्पादन बाजार समिति में प्रस्तावित बाजार शुल्क 2 प्रतिशत करने के विरोध में खाद्यान्न व्यापारियों का आंदोलन बुधवार को भी जारी रहा। राज्यपाल ने मंगलवार को कृषि उपज पर लगनेवाला 2 फीसदी टैक्स का बिल लौटा दिया था। आंदोलन के चलते बुधवार को भी परसुडीह बाजार समिति के व्यापारियों ने खाद्यान्न का आर्डर नहीं दिया।

बुधवार को लगभग 450 टन माल का आर्डर नहीं दिया गया। मंडी में पुराने आर्डर का लगभग 200 टन माल उतरा है। इसमें चावल, आटा, तेल और प्याज आलू शामिल है। अभी तक स्टाक की कोई कमी उत्पन्न नहीं हुई है। व्यापार मंडल के महासचिव करण ओझा के मुताबिक माल की आवक धीरे-धीरे घट रही है। क्योंकि नया माल दूसरे राज्यों से आ नहीं रहा है। अभी मंडी में किसी खाद्यान्न की दिक्कत नहीं है।

आंदोलन का तीसरा दिन एक नजर में

  • 450 टन खाद्यान्न का ऑर्डर नहीं दिया
  • 150 टन खाद्यान्न की आवक घटी।
  • 200 टन खाद्यान्न मंडी में उतरा।
  • 21 ट्रक खाद्यान्न मंडी पहुंचा।

राज्यपाल के बिल वापसी की समीक्षा हो रही

सिंहभूम चैंबर आफ कामर्स के अध्यक्ष विजय आनंद मूनका ने कहा कि राज्यपाल ने कृषि बाजार समिति के 2 प्रतिशत टैक्स का प्रस्ताव वापस कर दिया है, जिसकी राज्य स्तर पर व्यापारिक संगठनों द्वारा समीक्षा की जा रही है। इसके चलते बुधवार को आंदोलन को लेकर कोई निर्णय नहीं लिया गया। आंदोलन स्थगित करने पर फैसला गुरुवार को आ सकता है।

व्यापार मंडल की हुई बैठक में समीक्षा

व्यापार मंडल के महासचिव करण ओझा ने बताया व्यापार मंडल की ऑनलाइन बैठक हुई। बताया गया कि अभी खाद्यान्न का नया उठाव कोई नहीं कर रहा है। हालांकि, राज्यपाल ने बिल लौटा दिया है। आंदोलन को स्थगित करने की तैयारी चल रही है। गुरुवार को इस पर फैसला हो सकता है।

खबरें और भी हैं...