पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कदमा की घटना:मरीन ड्राइव के पास खरकई में नहाने गया बच्चा बहा, साथी काे लोगों ने बचा लिया

जमशेदपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
खरकई नदी में बच्चे को खोजती एनडीआरएफ की टीम। - Dainik Bhaskar
खरकई नदी में बच्चे को खोजती एनडीआरएफ की टीम।
  • एनडीआरएफ की टीम ने सूरज को नदी में दाे घंटे तक खोजा, आज फिर उतरेगी

कदमा थाना अंतर्गत घोड़ा चौक मरीन ड्राइव किनारे खरकई नदी में नहाने के दौरान शनिवार की दोपहर दो बच्चे डूबने लगे। कदमा के शिवनगर में रहने वाले गोपाल कुमार (9 वर्ष) को स्थानीय लोगों ने बचा लिया। जबकि उसका साथी कुसुम नगर बाघे बस्ती निवासी सूरज प्रमाणिक (10 वर्ष) नदी की धारा में बह गया। एनडीआरएफ की टीम माैके पर पहुंची और नदी में उतर कर शाम 4 बजे से 6 बजे तक खाेजा, लेकिन उसका कहीं पता नहीं चला। स्थानीय गोताखोरों ने भी घंटों तलाश की।

सूचना मिलते ही वहां लाेगाें की भीड़ जुट गई। बच्चे के परिजनाें का रो-रोकर बुरा हाल था। स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता भी घटनास्थल पर पहुंचे। कदमा पुलिस भी पहुंची और मामले की जानकारी ली। थाना प्रभारी मनोज कुमार ठाकुर ने बताया कि बहे बच्चे की खाेज में एनडीआरएफ की टीम रविवार को दोबारा नदी में उतरेगी।

4-5 बच्चों के साथ सूरज आया था नहाने- ऋषि

सूरज का साथी ऋषि कुमार ने बताया- सूरज चार-पांच दाेस्ताें के साथ नदी में नहाने आया था। वह डूबने लगा। उसे बचाने के लिए गोपाल गया तो सूरज ने गोपाल को भी नदी में खींच लिया। लेकिन किनारे में नहा रहे लाेगाें ने गोपाल को बचा लिया। सूरज नदी की तेज धारा में बह गया।

काम की खोज में गए थे मां बाप, मौका पा घर से निकला

सूरज के पिता बलदेव प्रामाणिक ने बताया कि सूरज उनका छाेटा बेटा था। वह शुक्रवार को भी नदी में नहाने गया था। जिस कारण उसकी पिटाई हुई थी। वे शनिवार काे पत्नी (सूरज की मां) के साथ रोजगार की तलाश में गए थे। इसी बीच वह माैका पाकर दाेबारा नदी में नहाने चला गया।

खतरे को दरकिनार कर नदी किनारे जुट रहे लोग

यास चक्रवात के कारण नदी का जलस्तर बढ़ गया है। बहाव भी तेज है। इसके बावजूद पास की बस्ती में रहने वाले लोग मछली पकड़ने व नहाने के लिए नदी किनारे जुट रहे हैं। बच्चे भी नदी में नहाने आ रहे हैं। इससे दुर्घटना होने की अाशंका हमेशा बनी रहती है।

खबरें और भी हैं...