पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अब मोक्ष के लिए भी इंतजार:अंतिम संस्कार करने पहुंचे लोगों ने पार्वती घाट के कर्मियों को फिर पीटा, काम रुका

जमशेदपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इधर, मुक्तिधाम को भी कर रहे शर्मसार

बिष्टुपुर पार्वती घाट में शुक्रवार की शाम शव का अंतिम संस्कार करने आए कुछ लोगों ने वहां के कर्मचारियों के साथ मारपीट की। पार्वती घाट में 49 शव दाह संस्कार करने के लिए पहुंचे थे। घाट के मैनेजर विनोद तिवारी ने बताया कि बेल्डीह ग्राम से सुमंत राम का शव दाह संस्कार करने के लिए लोग आए थे। इसी बीच शव के साथ आए लोगों नेकर्मचारी कुमार अनुभव और कुमार उदभव के साथ हाथापाई करते हुए पिटाई कर दी। पिटाई के बाद घाट के कर्मचारियों ने शव दाह करने से इंकार कर दिया।

घटना के बाद शवों का संस्कार कुछ देर के लिए रुक गया। कर्मचारियों ने शवों का अंतिम संस्कार करने से इंकार कर दिया। हालांकि, बाद में कमेटी के प्रयास से अन्य शवों का अंतिम संस्कार कराया गया। इसकी सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस माैके पर पहुंच मामला शांत कराया। कर्मचारियों की मांग है कि मारपीट करने वालों पर प्राथमिकी दर्ज और गिरफ्तारी किया जाए। पार्वती घाट में एक सप्ताह के भीतर दूसरी बार है जब यहां कर्मचारियों के साथ अंतिम संस्कार करने आए लोगों ने मारपीट की है। शवों की संख्या ज्यादा होने के चलते घाट पर लोगों की भीड़ लग जा रही है।

कोरोना वायरस से शहर में मौतों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। इस बीच शहर के दोनों बर्निंग घाट के इलेक्ट्रिक फर्नेस खराब होने के कारण लकड़ी पर अंतिम संस्कार हो रहा है। शुक्रवार शाम चार बजे सुवर्णरखा बर्निंग घाट पर कोविड से मरने वाले के करीब 52 शव अंतिम संस्कार के लिए पड़े थे।

पार्वती घाट के फर्नेस की मरम्मत का काम शुरू

पार्वती घाट के दोनों फर्नेस खराब हैं। इसके चलते लकड़ी पर ही दाह संस्कार हो रहा है। इसके चलते शवों के दाह संस्कार करने में वक्त लग रहा है। फर्नेस की मरम्मत का काम शुक्रवार से शुरू किया गया है। इसमें भी कम से कम दो दिन का समय लगेगा। अभी भुइयांडीह बर्निंग घाट में कोविड के शवों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है। सामान्य शवों को पार्वती घाट भेजा जा रहा है। इसके चलते पार्वती घाट पर ज्यादा दबाव है।

खबरें और भी हैं...