पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हिंदी पखवाड़ा:आज तक अंग्रेजी में ही ज्ञान पाया है, पर उन्नासी (79) और नवासी (89) के फर्क को नहीं समझ पाया है

जमशेदपुर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कवि गोष्ठी में शामिल अतिथि व कविगण। - Dainik Bhaskar
कवि गोष्ठी में शामिल अतिथि व कविगण।
  • श्रीमन क्लासेज की ओर से साकची बोधि मंदिर सभागार में कवि गोष्ठी का आयोजन

हिंदी पखवाड़ा के तहत श्रीमन क्लासेज की ओर से रविवार को साकची स्थित बोधि मंदिर सभागार में कवि गोष्ठी का आयोजन किया गया। इसमें बतौर मुख्य अतिथि अजय कुमार उपाध्याय (पूर्व रजिस्ट्रार, कोल्हान विश्वविद्यालय), विशिष्ट अतिथि राजकुमार सिंह (जिप उपाध्यक्ष) और सम्मानित अतिथि अमरप्रीत सिंह काले मौजूद थे।

कार्यक्रम की शुरुआत स्वास्तिवाचन, गणपति वंदना एवं सरस्वती वंदना से हुई। गोष्ठी के दौरान दीपक वर्मा दीप के व्यंग्य ने उपस्थित श्रोताओं को आनंदित किया। उन्होंने कहा- ‘आज तक अंग्रेजी में ही ज्ञान पाया है, पर उन्नासी(79) और नवासी (89) के फर्क को नहीं समझ पाया है’। इस कार्यक्रम में कवि/कवयित्रियों एवं प्रबुद्धजनों को सम्मानित किया गया। धन्यवाद ज्ञापन श्रीमन नारायण त्रिगुण ने किया।

मौके पर सरायकेला बीडीओ मृत्युंजय कुमार, जिला सहकारिता पदाधिकारी अशोक तिवारी, एसबीआई के सीनियर मैनेजर राजकुमार मणि तिवारी, सुधीर कुमार, इंडियन ओवरसीज बैंक के विवेक पराशर, पूर्व सैनिक परिषद के सुशील सिंह, भाजपा नेता मनोज सिंह, विकास सिंह, भाजमो के मुकुल मिश्रा, राकेश पांडेय, अभाविप के सोनू ठाकुर, सुखदेव सिंह, डॉ रागिनी भूषण, शैलेंद्र पांडेय शैल, सूरज सिंह राजपूत, पुरुषोत्तम त्रिवेदी समेत शहर के गणमान्य लोग उपस्थित थे।

हमारे देश में हिंदी सरल सबके जुबां पे हो
सभी की भावनाओं में सहज मझधार हो हिंदी
बने विज्ञान-अनुसंधान की भाषा यही हिंदी
न्यायालय के जो भी फैसले हो साभार हो हिंदी

खबरें और भी हैं...