पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अर्पित कश्यप हत्याकांड:उलीडीह- कालिकानगर के अर्पित की पैसों को लेकर हुई थी हत्या, पुलिस ने एक आरोपी को किया गिरफ्तार

जमशेदपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गिरफ्तार सुनील रजक। - Dainik Bhaskar
गिरफ्तार सुनील रजक।
  • इस हत्याकांड में डेविड समेत 4 आरोपी फरार, बिहार में छिपे हैं
  • डेविड ने अपने साथी नीरज के साथ मिल दिया था घटना को अंजाम
  • गिरफ्तार सुनील ने बताया- सिट्टू सिंह व आदित्य मिश्रा ने डेविड को दिया था हथियार, फिर कार से भाग निकले

उलीडीह थाना क्षेत्र के सुभाष कॉलोनी रोड नंबर-2 में 29 जून की सुबह अर्पित कश्यप उर्फ अर्पित शर्मा (21 वर्ष) की गोली मारकर हत्या करने के मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। आरोपी उलीडीह के लक्ष्मण नगर निवासी सुनील रजक को पुलिस ने गुप्त सूचना पर पकड़ा। सुनील पर अर्पित की हत्या के बाद अपनी बाइक और कार से फायरिंग करने वाले डेविड और उसके साथियों को भगाने में मदद करने का आरोप है। मृतक अर्पित कालिकानगर रोड नंबर-4 का रहने वाला था।

पूछताछ में सुनील रजक ने बताया- पैसों के लेनदेन के विवाद में डेविड ने साजिश के तहत अर्पित की हत्या की। पैसों के कारण दोनों के बीच गाली-गलौज भी हुई थी। पूछताछ के बाद शुक्रवार को पुलिस ने सुनील को जेल भेज दिया। पुलिस ने एक बाइक बरामद की है। उलीडीह थाना प्रभारी मेघनाथ मंडल ने बताया- अर्पित हत्याकांड को कुल 5 लोगों ने मिलकर अंजाम दिया है। डेविड ने पैसों की लेनदेन के विवाद में अर्पित की हत्या की थी। घटनास्थल पर डेविड के साथ नीरज सिंह उर्फ भगना मौजूद था। सिट्टू सिंह और आदित्य मिश्रा ने डेविड को हथियार दिया था। सभी आरोपी सिट्टू गैंग के सदस्य हैं। अर्पित की हत्या के बाद सुनील रजक अपनी बाइक से डेविड और नीरज को लेकर भागा था। बाद में कार से सुनील ने चारों आरोपियों को बिहार पहुंचाया था।

सीएच एरिया पेट्रोल पंप फायरिंग मामले में एक और आराेपी गिरफ्तार

बिष्टुपुर सीएच एरिया पेट्रोल पंप के पास रिमांड होम से छूटे पिंटू यादव पर फायरिंग के मामले में पुलिस को एक और सफलता हाथ लगी है। साकची काशीडीह निवासी आरोपी पुरुषोत्तम कुमार गुप्ता उर्फ पिंटू को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार पकड़ाए आरोपी ने फायरिंग करने के आरोपियों को भागने के लिए अपनी कार दी थी। उसी के कार से आरोपी रांची गए थे। थाना में पुरुषोत्तम कुमार गुप्ता के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया था। लेकिन, वह फरार चल रहा था। गुप्त सूचना पर पुलिस ने उसे पकड़ा। शुक्रवार को उसे जेल भेज दिया गया। इस मामले में पुलिस अब तक 9 आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है।

खबरें और भी हैं...