ऑनलाइन सेमिनार:गर्भावस्था में महिलाओं में यूटीआई का खतरा अधिक, आईएमए हर शनिवार को अलग-अलग विषय पर करेगा वेबिनार

जमशेदपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डाॅ. हरप्रीत सिंह - Dainik Bhaskar
डाॅ. हरप्रीत सिंह

आईएमए जमशेदपुर शाखा की ओर से अब हर शनिवार को विभिन्न विषयों पर वेबिनार किया जाएगा। शनिवार को शहर के किडनी रोग विशेषज्ञ डाॅ. हरप्रीत सिंह की अध्यक्षता में यूरीनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) पर ऑनलाइन सेमिनार हुआ। मौके पर मुख्य वक्ता के तौर पर ब्रह्मानंद अस्पताल के डॉ चंपई सोरेन मौजूद थे। डॉ हरप्रीत ने कहा- प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को विशेष ध्यान देने की जरूरत है। इस दौरान महिलाओं में यूटीआई का खतरा काफी बढ़ता है।

गर्भावस्था में गर्भाशय का आकार बढ़ने से उसका काफी भार मूत्राशय पर पड़ता है, जिससे पेशाब बाहर निकलने का रास्ता अवरुद्ध होने लगता है और इंफेक्शन होने का खतरा होता है। गर्भवती में यूटीआई की समस्या होने पर बच्चा खराब होने की आशंका अधिक रहती है। बच्चे का वजन कम होने के साथ समय से पूर्व प्रसव होता है, जिससे जच्चा-बच्चा दोनों को खतरा है।

भागदौड़ की जिंदगी में यूटीआई का एक कारण कब्ज भी है। हाल में देखा जा रहा है कि जिसे कब्ज की समस्या है वैसे लोगों में यूटीआई के अधिक मामले सामने आ रहे हैं। मौके पर आईएमए के अध्यक्ष डॉ उमेश खां, डॉ बीआर मास्टर, डॉ जीसी माझी, डॉ वनिता सहाय, डॉ संतोष गुप्ता आदि मौजूद थे।

यूटीआई के लक्षण

  • पेशाब करते समय जलन होना
  • झागदार पेशाब आना
  • कमर दर्द होना
  • बार-बार पेशाब आना
  • पेशाब करने की इच्छा होना
  • बुखार सहित अन्य
खबरें और भी हैं...