पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शरीफ पर नकल:बकरीद पर सभी के उन्नति व शांति के लिए दुआ मांगी

श्यामसुंदरपुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मुसलमानाें के दूसरी सबसे बड़ी पर्व ईद उल अजहा या बकरीद पर्व बुधवार काे मनाया गया। अरबी माह जिल्हिज्जा के दसवीं तारीख को यह पर्व मनाया जाता है। मुसलमान अपने नबी मोहम्मद (स:) के कहे अनुसार इब्राहिम खलीलुल्लाह के सुन्नत का नकल फरमाते हैं, जिसमें अल्लाह की हुक्म के इब्राहिम खलीलुल्लाह अपने बेटे इस्माइल को कुर्बानी देने को इसी दिन तैयार हो गए थे। अल्लाह ने उनके इस कृत्य को पसंद कर लिए थे। तबसे उनके अनुयायी इस दिन को मक्का स्थित काबा शरीफ पर नकल करते आ रहे हैं।

कालांतर में मुसलमानों ने भी अपने नबी के आदेश काे अपना लिए। इस दिन सुबह निर्धारित समय पर विशेष नमाज अदा की जाती है। इसके बाद इमाम कुर्बानी का बाखान देते हैं। इसके बाद मुसलमान एक दूसरे से मिलकर बधाई देते हैं तथा अपने-अपने पशुओं की कुर्बानी देते हैं। इस साल कोविड वायरस के चलते भीड़-भाड़ से बचते हुए कुबार्नी के त्योहार मनाया गया। मौके पर सभी के उन्नति तथा शांति के लिए दुआ मांगी गई।

खबरें और भी हैं...