बेल्जियम के चिकित्सक कुष्ठ रोग का बताएंगे इलाज:झारखंड के सहयोग से होगा कुष्ठ रोगियों का ईलाज, चिकित्सकों की टीम जामताड़ा पहुंची

मुरलीपहाड़ी11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अस्पताल में कुष्ठ मरीजों की जानकारी लेते बेल्जियम के चिकित्सक। - Dainik Bhaskar
अस्पताल में कुष्ठ मरीजों की जानकारी लेते बेल्जियम के चिकित्सक।

झारखंड के जामताड़ा जिले में कुष्ठ रोगियों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर रविवार को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र नारायणपुर में यूरोपीयन कंट्री बेल्जियम (ब्रसेल्स) से दो सदस्यीय चिकित्सा टीम नारायणपुर पहुंची। टीम में झारखंड स्टेट के दो चिकित्सक भी इनके सहयोग में शामिल थे। इनके द्वारा जामताड़ा जिले में कुष्ठ रोगियों को मिलने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं की जानकारी लेते हुए बेहतर से बेहतर उपचार कर उसे पूरी तरह से ठीक करने की दिशा में गहन पूछताछ और निरीक्षण किया गया।

नारायणपुर में कुष्ट उन्मूलन के लिए किए जा रहे उपचार की जानकारी सीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ एस के गुप्ता से ली गई। इस संदर्भ में डाेमेनियल फाउंडेशन ट्रस्ट ऑफ इंडिया के निदेशक डॉ अल्बर्टो रोजी, स्टेट कॉर्डिनेटर डॉ गौतम कुमार, डायमंड फाउंडेशन के जोनल काे-ऑर्डिनेटर डॉ बलराम महतो एवं झारखंड के प्रोजेक्ट मैनेजर शामिल थे। उपरोक्त चिकित्सकों ने बताया कि झारखंड में कुष्ठ उन्मूलन को जड़ से खत्म करने के लिये ही इनका यहां आना हुआ है।

बताया कि समाज मे कुष्ट रोगियों को हीन भावना की दृष्टि से देखा जाता है। जबकि शत फीसदी इसे उपचार करके ठीक किया जा सकता है। बताया कि यूरोपियन कंट्री में ऐसे कई रोगियों को ठीक किया गया है। आज वे समाज मे सबके साथ बैठने लायक बन गए है। उन्होंने कई बीमारियों की चर्चा करते हुए कहा कि वैसे युवा पीढ़ी जो गलत भ्रांतियों के कारण संकुचित होते चले जा रहे है। उन्हें बेहतर से बेहतर इलाज इस फाउंडेशन के तरफ से किया जायेगा।

बताया की झारखंड सरकार के सहयोग से राज्य के 12 जिलों में हमारा काम चलेगा जिसमें जामताड़ा जिला शामिल है। कुष्ठ उन्मूलन हेतु तकनीकी सहायता की मदद से जिले में कुष्ठ रोगों का इलाज किया जाना संभव है। साथ ही स्वास्थ्य से जुड़ी तमाम तरह की बातों की जानकारी ली गई। टीम ने एक एक बिंदुओं पर गहनता पूर्वक जांच और अध्ययन भी किया है। इस मौके पर चिकित्सा पदाधिकारी डॉ एस के गुप्ता, महेश प्रसाद सिंह, प्रफुल्ल कुमार आदि उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...