भास्कर एक्सक्लूसिव:पश्चिम बंगाल के रूपनारायणपुर से झारखंड के गोविंदपुर तक विकसित की जाएगी ग्रीन फील्ड कॉरिडोर, सुगम होगी यातायात

चित्तरंजनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हाइवे ऑथोरिटी ऑफ इंडिया ने इंटर स्टेट सीमा पर हाइवे के गलियारों को प्रदूषण से मुक्त करने तथा ट्रांसपोर्ट को और सुगम करने के लिए ग्रीनफील्ड कॉरिडोर के रूप में विकसित करने की योजना बनाई है।

योजना के तहत पश्चिम बंगाल के रूपनारायणपुर से झारखंड के गोविंदपुर तक ग्रीनफील्ड कॉरिडोर के रूप में लगभग 45 किमी तक सड़क बनाने की दिशा में कार्य को अमली जामा पहनाने की तैयारी की जा रही है।

इससे चित्तरंजन, रूपनारायणपुर को झारखंड के कृषि प्रधान क्षेत्र से जोड़ा जाएगा। योजना के अनुसार सड़क के गलियारों में हरे पेड़ पौधे बाग बगीचे पार्क आदि किए जाएंगे इससे ना सिर्फ प्रदूषण की रोकथाम में मदद मिलेगी बल्कि मछली से लेकर सब्जियों तक हर चीज के परिवहन में अभूतपूर्व लाभ होगा। इसके लिए करीब 300 करोड़ 46 लाख रुपये का आवंटन किया गया है और यह फंड केंद्र सरकार की ओर से मुहैया कराई जा रही है।

अगले महीने से शुरु होगा निर्माण कार्य
गोविंदपुर-साहेबगंज राष्ट्रीय राजमार्ग 419 के बीच 45 किमी क्षेत्र को ग्रीनफील्ड कॉरिडोर बनाने के लिए जून महीने से ही काम शुरू होने जा रहा है। बताया जा रहा है कि यह एक्सप्रेस वे चित्तरंजन होते हुए गोविंदपुर, पोखरिया से रूपनारायणपुर पहुंचेगा। इसके लिए 23 किलोमीटर क्षेत्र में गोविंदपुर से पुखुरिया तक फोर लेन सड़क बनेगी।

बराकर पर होगा पुल निर्माण
कार्य के तहत मिहिजाम कानगोई में 28/29 करोड़ रुपये की लागत से एक रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण किया जाएगा। जामताड़ा को धनबाद के पूर्वी टुंडी क्षेत्र से सीधे जोड़ने के लिए बराकर नदी पर 855 मीटर लंबा और 14 मीटर चौड़ा पुल बनाया जाएगा।

45 किमी सड़क पर छोटे नदी पुलों, पुरानी पुलियों को तोड़कर कई स्थानों पर नई बड़ी पुलिया का निर्माण किया जाएगा। भूमि अधिग्रहण की योजनाओं को अंतिम रूप दिया जा चुका है।

खबरें और भी हैं...