ई-विद्यावाहिनी एप:सरकारी स्कूलों के शिक्षक स्कूल से गायब रह कर बिहार और दूसरे जिलों में बैठकर बना रहे थे हाजिरी

कोडरमा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की उपस्थिति सुनिश्चित कराने को लेकर सरकार की ओर से बायोमेट्रिक हाजिरी बनाने का सिस्टम लागू किया गया है। मगर कुछ शिक्षक इस सिस्टम को भी धता बता कर घर बैठे हाजिरी बना कर वेतन प्राप्त कर रहे हैं। इस तरह की शिकायत मिलने पर जिले के उपायुक्त आदित्य रंजन की ओर से शिक्षकों के बायोमैट्रिक अटेंडेंस की जांच कराई गई। जिसमें पाया गया कि 15 शिक्षक अपने पदस्थापित स्कूलों के बजाय 80 से लेकर डेढ़ सौ किलोमीटर दूर किसी जगह से बायोमेट्रिक के जरिए हाजिरी बना रहे हैं।

इन शिक्षकों की ओर से स्कूल के बजाय दूसरे जगहों से वहां के स्कूलों व अन्य कार्यालयों में लगे बायोमैट्रिक सिस्टम से हाजिरी बना ली जाती थी। और स्कूल से लंबे समय से गायब रह रहे थे। गलत तरीके से बायोमेट्रिक के जरिए हाजिरी बनाने वाले चिन्हित किए गए सभी 15 शिक्षकों पर उपायुक्त के निर्देशानुसार इनसे स्पष्टीकरण मांगी जा रही है। साथ ही इसके बाद इन पर अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू की जाएगी। इस संबंध में उपायुक्त ने बताया कि दोषी शिक्षकों को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा। इन पर निलंबन के अलावा आगे विभाग के प्रावधान के अनुसार कठोर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

15 शिक्षकों पर 6 दिनों से डीसी रख रहे थे नजर

स्कूल से गायब रह कर 15 शिक्षक दूसरे जगहों से हाजिरी बनाने की शिकायत की डीसी 6 दिनों से जांच कर रहे थे। डीसी बताया कि फर्जी तरीके से हाजिरी बनाकर स्कूलों से गायब रहने को लेकर चिन्हित गए किए गए शिक्षकों में सभी प्रखंडों से दो-तीन शिक्षक शामिल हैं। जिसमें कुछ शिक्षक अस्थाई और कुछ इसमें पारा शिक्षक भी शामिल है। ऐसे शिक्षकों में कुछ शिक्षक 80 से लेकर डेढ़ सौ किमी की दूरी पर किसी जगह से हाजिरी बना रहे थे।

उन्होंने बताया कि मुहर्रम के दौरान एक शिक्षक की ड्यूटी लगी थी। गया से हाजिरी बना ली। इसके अलावा सतगावां प्रखंड के चिन्हित किए गए शिक्षक एक ओर जहां बिहार के किसी जिले से हाजिरी बना रहे थे। वहीं कुछ अन्य प्रखंड के शिक्षक भी राज्य के दूसरे जिलों से हाजिरी बना रहे थे।

ऐसे बनाते हैं दूर बैठकर हाजिरी

हाजिरी बनाने के लिए सभी शिक्षकों के माेबाइल पर ई-विद्यावाहिनी एप को लोड किया गया है। कोई भी हाजिरी बनाने के लिए इस साइट को खोलकर अपना आईडी नंबर डालकर हाजिरी बना लेते हैं। माेबाइल के लोकेशन के आधार पर यह पता चलता है के शिक्षक ने स्कूल से या किसी अन्य जगह से हाजिरी बनाई है। ऐसे उनकी अनुपस्थिति पकड़ी जाती है।

खबरें और भी हैं...