तेंदुआ आतंक से हड़कंप:तेंदुआ से सुरक्षा की मांग, लोगों ने प्रखंड कार्यालय घेरा

बरवाडीह10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बरवाडीह में प्रखंड कार्यालय का घेराव कर बीडीओ से वार्ता करते ग्रामीण - Dainik Bhaskar
बरवाडीह में प्रखंड कार्यालय का घेराव कर बीडीओ से वार्ता करते ग्रामीण

जंगली तेंदुआ और लकड़बग्घा के बढ़ते आतंक और भय के कारण जंगली क्षेत्रों में रहने वाले ग्रामीणों के अंदर दहशत का माहौल है। सुरक्षा की मांग को लेकर मंगलवार को संयुक्त ग्राम सभा के बैनर तले वन क्षेत्र अंतर्गत आने वाले दर्जनों गांव के सैकड़ों ग्रामीणों ने जिला परिषद के सदस्य कन्हाई सिंह के नेतृत्व में प्रखंड कार्यालय का घेराव करते हुए सुरक्षा की मांग की।

घेराव करने पहुंचे महिला, पुरुष, वृद्ध और बच्चों के द्वारा आदमखोर जानवर को पकड़ने में वन विभाग के द्वारा लापरवाही करने का आरोप लगाया। साथ ही, वन क्षेत्र में रहने वाले ग्रामीणों की सुरक्षा को लेकर भी किसी भी तरह की योजना अब तक नहीं बनाए जाने के खिलाफ जमकर विरोध दर्ज किया।

ग्रामीणों का नेतृत्व कर रहे जिला परिषद के सदस्य कन्हाई सिंह ने आरोप लगाया कि वन विभाग और प्रशासन सिर्फ आदमखोर जानवर को पकड़ने के नाम पर खानापूर्ति कर रही है। इस कारण आज रोजाना आम आदमी और पालतू जानवर उसका शिकार हो रहे हैं। इसके खिलाफ अब उग्र आंदोलन होगा।

अगर वन विभाग के द्वारा ग्रामीणों की सुरक्षा को लेकर क्षेत्रों में नियमित पेट्रोलिंग करने का काम नहीं किया जाता है और शिकारियों की संख्या नहीं बढ़ाई जाती है तो 15 दिनों के बाद वन विभाग का हुक्का पानी बंद कर दिया जाएगा।

बीडीओ राकेश सहाय ने ग्रामीणों की समस्याओं को सुनते हुए कहा कि उनकी सभी मांगे सुरक्षा के दृष्टिकोण से जायज है। इसको लेकर जिले के उपायुक्त के साथ-साथ वन विभाग के वरीय अधिकारियों को अवगत कराते हुए ग्रामीणों की सुरक्षा के लिए नियमित पेट्रोलिंग की व्यवस्था कराई जाएगी।

आदमखोर जानवर को मारने को लेकर शिकारियों की संख्या बढ़ाने का प्रस्ताव भी देने का काम किया जाएगा। इस दौरान वनपाल शाशक पांडे सन्तोष कुमार 20 सूत्री के अध्यक्ष नसीम अंसारी, सांसद प्रतिनिधि कन्हाई प्रसाद, समाजसेवी धीरज कुमार, मकलदेव सिंह, सत्येंद्र अजय सिंह, मानती देवी, देवंती देवी, किस्मती देवी समेत काफी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...