पलामू से रोज 3 हजार ट्रैक्टर बालू का हो रहा:पलामू से रोज 3 हजार ट्रैक्टर बालू का हो रहा अवैध उठाव, माफियाओं को पुलिस का मिल रहा संरक्षण

लातेहारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पलामू का बालू घाट। - Dainik Bhaskar
पलामू का बालू घाट।

खनन विभाग व पुलिस की मिलीभगत से पलामू में अवैध तरीके से बालू का उठाव कर उसे अन्य प्रदेशों में भेजा जा रहा है। सरकार के द्वारा 31 मार्च के बाद बालू घाट का लीज नहीं हुआ है,बावजूद इसके रात के अंधेरे से लेकर दिन के उजाले में भी जिले के विभिन्न वैध व अवैध बालू घाट से बालू का उठाव हो रहा है। पूरे जिले से प्रतिदिन तीन हजार ट्रैक्टर बालू का उठाव व परिवहन हो रहा है।

इससे सकरार को प्रतिमाह एक करोड़ रुपए राजस्व का नुकसान हो रहा है। इस धंधे में बालू माफिया के साथ-साथ कई सफेदपोश भी शामिल रहते हैं। पलामू का बालू हाइवा व बड़े ट्रकों से यूपी, एमपी व छत्तीसगढ़ तक भेजा जा रहा है।

पलामू के मंडी में 50 हजार का बालू दूसरे प्रदेश की मंडियों में पहुंचकर डेढ़ लाख रुपए में बिकता है। जेसीबी मशीन से खुलेआम बालू का खनन कर वाहनों में लोड किया जाता है। इस धंधे में संबंधित थाना पुलिस के अलावा जिला खनन कार्यालय में बंधी बंधाई राशि माफियाओं द्वारा पहुंचाई जाती है।

धड़ल्ले से चल रहा है बालू उठाव का धंधा
मेदिनीनगर से होकर बहनेवाली कोयल नदी में कई बालू घाट हैं। इन घाटों पर से अवैध तरीके से बालू का उठाव रोज किया जा रहा है।फिर बालू को किसी दूसरे स्थान पर डंप कर उसे ट्रक के माध्यम से दूसरे प्रदेशों में भेजा जा रहा है। कई बार सूचना जिला खनन विभाग को भी दी गई है मगर वे बेखबर हैं।

अवैध रूप से बालू बाहर ले जाए जाने के विपरीत जिलेवासियों को महंगे दामों पर बालू खरीदना पड़ रहा है। शहरवासियों की मानें तो पहले 400 रुपयों में एक ट्रेलर बालू मिला करता था मगर अब 15 सौ से दो हजार प्रति ट्रेलर बालू बिक रहा है।

बालू महंगे हो जाने से पंचायत स्तर और ग्राम स्तर पर होने वाले प्रधानमंत्री आवास योजना व शौचालयों के निर्माण कार्य प्रभावित होने लगे हैं। पंचायत प्रतिनिधियों की मानें तो महंगे दाम पर बालू खरीदकर शौचालय का निर्माण कराना पड़ रहा है। सतबरवा में बालू घाट नहीं है, लेकिन अवैध तरीके से औरंगा नदी से सलैया परहिया टोला, हुडमुड अमझरिया टोला आदि से उठाव हो रहा।

पुलिस प्रशासन पर भी उठे रहे कई सवाल

हुसैनाबाद प्रखंड के सोनपुरवा, बभनदेवरी,गयाबीघा, पुरनाडीह,देवरी कला,बडेपुर, बुधवा, दनगवार परता,पंसा कबरा,कोल्हुआ, सोनबरसा, कबरा कला के सोन नदी बालू घाट स्थित है, यहां से भी अवैध बालू का उठाव हो रहा है।

हरिहरगंज प्रखंड अंतर्गत कटैया, तरवन , सेमरवार, ढाब, खड़कपुर, बलरा, सुल्तानी, तरहसी के सोनपुरा, बलियारी, जमना,मकनपुर, गुरहा, तरहसी पुल, नीलांबर पीतांबरपुर प्रखंड के सांगबार,बनुआ, शाहद,जोलंगा, झरहा समेत विभिन्न प्रखंड के लगभग डेढ़ सौ वैध व अवैध बालू घाट से यह कारोबार हो रहा है। जिले से गुजरने वाली सोन ,अमानत, कोयल ,औरंगा, कररबार नदी से बालू खनिज का दोहन हो रहा है।

खबरें और भी हैं...