शहादत को नमन:झारखंड जगुआर के शहीद डिप्टी कमांडेंट के साहस को किया याद, कहा- कुर्बानी नहीं जाएगी बेकार

लातेहारएक महीने पहलेलेखक: संजीत गुप्ता
  • कॉपी लिंक

लातेहार में अपने प्राणों की आहुति देने वाले झारखंड जगुआर के शहीद डिप्टी कमांडेंट राजेश कुमार समेत देशभर के 264 शहीद पुलिस पदाधिकारी एवं जवान पुलिस संस्मरण दिवस पर शुक्रवार को याद किए गए। डिप्टी कमांडेंट राजेश कुमार 28 सितंबर 2021 को लातेहार में झारखंड जन मुक्ति परिषद (जेजेएमपी) के उग्रवादियों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए थे। उस समय पुलिस विभाग के वरीय अधिकारियों को सूचना मिली थी कि सदर थाना क्षेत्र अंतर्गत नावागढ़ पंचायत के सलैया जंगल में जेजेएमपी के उग्रवादी जुटे हुए हैं और किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में है।

इसी सूचना पर डिप्टी कमांडेंट राजेश कुमार के नेतृत्व में झारखंड जगुआर की एक टीम यहां पहुंची थी। झारखंड जगुआर की टीम जैसे ही सलैया जंगल के करीब पहुंची, जेजेएमपी के उग्रवादियों ने फायरिंग शुरू कर दी थी। करीब 2 घंटे तक यहां मुठभेड़ चली थी। बताया जाता है कि अदम्य साहस दिखाते हुए डिप्टी कमांडेंट राजेश कुमार ने ताबड़तोड़ कार्रवाई करते हुए उग्रवादियों को पीछे खिसकने के लिए मजबूर कर दिया था। इसी दौरान वे उग्रवादियों के गोलियों के शिकार हो गए थे। घायल होने के बाद भी मोर्चा संभाले रहे।

इस मुठभेड़ में जेजेएमपी के एक उग्रवादी को भी मार गिराया था। घायलावस्था में उन्हें लातेहार लाया गया। यहां से प्राथमिक उपचार के बाद एअर लिफ्ट कर रांची ले जाने के दौरान रास्ते में शहीद हो गए। मुठभेड़ के बाद पुलिस ने सर्च अभियान चलाकर घटनास्थल से एके-47 सहित उग्रवादियों के छह उम्दा हथियार भी बरामद किए थे। शहीद डिप्टी कमांडेंट राजेश कुमार बिहार के मुंगेर जिला के रहने वाले थे। 12 नवंबर, 2007 को बीएसएफ की नौकरी में आए थे। उन्होंने 7 सितंबर, 2018 को झारखंड जगुआर में योगदान दिया था।

इधर, पुलिस संस्मरण दिवस पर न्यू पुलिस लाइन स्थित पुलिस स्मारक स्थल पर पुलिस अधीक्षक अंजनी अंजन, एसडीपीओ संतोष कुमार मिश्रा समेत अन्य पुलिस पदाधिकारियों व जवानों ने जिले में कर्तव्य के दौरान अपने प्राणों की आहुति देने वाले शहीद पदाधिकारियों एवं कर्मियों को सलामी दी। दो मिनट का मौन धारण कर श्रद्धांजलि दी। स्मारक स्थल पर माल्यार्पण व पुष्प अर्पित कर नमन किया।

इस दौरान शहीद सपूतों के नाम भी पढ़े गए। एसपी अंजन ने शहीद के परिजनों को सम्मानित किया। उनसे संवाद कर किसी भी प्रकार की समस्या आने पर तुरंत संपर्क करने की बात कही। मौके पर सार्जेंट मेजर सुशांत कुमार, पुलिस निरीक्षक सह सदर थाना प्रभारी अमित कुमार गुप्ता, पुलिस निरीक्षक (लातेहार अंचल) बबलू कुमार, पुलिस निरीक्षक आशुतोष कुमार, सार्जेंट संतोष कुमार, पुअनि राणा भानु प्रताप सिंह, पुलिस मेंस एसोसिएशन के अध्यक्ष आनंद उरांव, संयुक्त सचिव जितेंद्र यादव, पुलिस एसोसिएशन के विजयकांत तिवारी, नंदलाल समेत बड़ी संख्या में पुलिस पदाधिकारी, कर्मी एवं शहीद के परिजन मौजूद थे।

डीएसपी ने कहा- देश के लिए वीरगति को प्राप्त होने वाले जवानों की कुर्बानियां कभी भी नहीं जाएगी बेकार
इधर, नेतरहाट जंगल वार फेयर स्कूल में भी संस्मरण दिवस मनाया गया। शहीद पुलिस पदाधिकारी एवं कर्मियों को याद किया गया। इस अवसर पर पुलिस उपाधीक्षक केके महतो ने कहा कि जिन्होंने अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए अपने प्राणों की आहुति दी है, उनके कुर्बानियों को भुलाया नहीं जा सकता है। देश के लिए वीरगति को प्राप्त होने वाले पदाधिकारी एवं कर्मियों को शत-शत नमन।

इससे पहले दो मिनट का मौन धारण कर श्रद्धांजलि दी गई। स्मारक स्थल पर माल्यार्पण व पुष्प अर्पित कर नमन किया गया। शहीद सपूतों के नाम भी पढ़े गए और शहीद के परिजनों को सम्मानित किया। मौके पर सार्जेंट मेजर राकेश कुमार दुबे समेत जंगल वार फेयर के पदाधिकारी एवं प्रशिक्षु जवान मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...