पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

धनबाद से बंगाल तक फैले कोयले का काला सच:फर्जी बिल पर चिपका 20 का नोट होता था कोड, 7 ट्रक पकड़े तो खुला 5500 करोड़ का घोटाला

धनबाद14 दिन पहलेलेखक: विकास सिंह
  • कॉपी लिंक
कोयला घोटाले की जांच का दायरा बढ़ा तो अवैध कोयले की कालिख ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के परिवार को दागदार कर दिया। यह पूरा मामला तब सामने आया, जब 2 नवंबर 2020 को लाला सिंडिकेट की 7 ट्रकें धनबाद में पकड़ी गईं। - Dainik Bhaskar
कोयला घोटाले की जांच का दायरा बढ़ा तो अवैध कोयले की कालिख ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के परिवार को दागदार कर दिया। यह पूरा मामला तब सामने आया, जब 2 नवंबर 2020 को लाला सिंडिकेट की 7 ट्रकें धनबाद में पकड़ी गईं।
  • सीबीआई ने ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक की साली से की पूछताछ, आज पत्नी से सवाल-जवाब

करीब 5500 करोड़ का कोयला घोटाला...। दो राज्यों (झारखंड और पश्चिम बंगाल) का सिंडिकेट...। घोटाले की जांच का दायरा बढ़ा तो अवैध कोयले की कालिख ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के परिवार को दागदार कर दिया। यह पूरा मामला तब सामने आया, जब 2 नवंबर 2020 को लाला सिंडिकेट की 7 ट्रकें धनबाद में पकड़ी गईं।

अनुमान है कि यह घोटाला 2011 से चल रहा है। हर दिन करीब 100 ट्रक कोयला निकला है। एक ट्रक में औसतन 24 टन कोयला होता है। इस हिसाब से एक दिन में लाला ने करीब 1.68 करोड़ रुपए का कोयला बेचा है। इस हिसाब से 9 साल में करीब 5500 करोड़ रुपए का अवैध कोयला बेचा गया है। जैसे-जैसे कोयला घोटाले की जांच बढ़ती जा रही है पश्चिम बंगाल की राजनीति गर्म होती जा रही है।

सोमवार को ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी की साली से पूछताछ हुई। आज उनकी पत्नी रुजिरा से सीबीआई पूछताछ करेगी। दो राज्यों के इस सिंडिकेट को चलाने वाले अनूप मांझी उर्फ लाला को सीबीआई खोज रही है। लाला को भ्रष्ट अफसरों व नेताओं के सिंडिकेट ने कोयला तस्करी का ‘लाल’ बनाया।

घोटाले का टीएमसी कनेक्शन : ऐसे जांच के दायरे में आया ममता का परिवार

4 तरीकों में पूरा घोटाला: बंद खदान से ऐसे देशभर में पहुंचता था चोरी का कोयला

1. बंद माइंस से लाला निकालता था कोल

जांच में सीबीआई को सुराग मिले हैं कि कोयले का अवैध खनन कराने में कुछ कोल अफसर किसी चालू खदान को बंद करा देते थे। ताकि बंद खदानों से कोयले निकालने की जिम्मेदारी लाला संभाल सके।

2. जाली पैड पर होती थी ट्रकों की एंट्री

लाला सिंडिकेट बंगाल से औसतन 100 ट्रक झारखंड या बिहार व यूपी समेत देशभर में भेजता था। इन ट्रकों में कोयले की खरीद-बिक्री से जुड़े वैध कागजात व किसी रजिस्टर्ड कोल कंपनी के चालान के बजाय फर्जी पैड का इस्तेमाल हो रहा था।

3. जीएसटी राशि हड़प लेते थे

जीएसटी की राशि हड़प ली जा रही थी। झारखंड के ट्रक के प्रवेश पर कोयला सप्लायर या खरीदार को जीएसटी मद में 5 फीसदी राशि चुकानी पड़ती है। फर्जी पैड के इस्तेमाल से इसे हड़पा जा रहा था।

4. लाला का पासिंग कोड 20 रुपए का नोट

फर्जी इनवॉइस बिल में 20 का नोट चिपका होता था। यह नोट ही ट्रकों का पासिंग कोड था। सीबीआई के हाथ लगे जाली पैड में 20 का एक नोट भी चिपका मिला। यह नोट ही गारंटी होता है कि संबंधित ट्रक लाला सिंडिकेट का है और उसे पुलिस सुरक्षित पासिंग देगी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आर्थिक दृष्टि से आज का दिन आपके लिए कोई उपलब्धि ला रहा है, उन्हें सफल बनाने के लिए आपको दृढ़ निश्चयी होकर काम करना है। कुछ ज्ञानवर्धक तथा रोचक साहित्य के पठन-पाठन में भी समय व्यतीत होगा। ने...

    और पढ़ें