पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Former CM Babulal Marandi And Mayor Asha Lakra Met Agitating Assistant Policemen In Morhabadi Maidan Ranchi To Demand Permanent Employment

आंदोलन का दूसरा दिन:पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी और मेयर ने सहायक पुलिसकर्मियों से की मुलाकात, आशा लकड़ा ने कहा- सरकार की कथनी और करनी में फर्क

रांची7 दिन पहले
मोरहाबादी मैदान में सहायक पुलिसकर्मियों से मुलाकात करने पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी।
  • नौकरी में परमानेंट करने की मांग को लेकर मोरहाबादी मैदान में शनिवार से जमे हैं सहायक पुलिसकर्मी
  • कहा- न पीने के पानी की व्यवस्था और न खाने की, खुले आसमान के नीचे गुजार रहे हैं दिन और रात

राज्य के 12 नक्सल प्रभावित जिलों के 2500 सहायक पुलिसकर्मी के आंदोलन का रविवार को दूसरा दिन है। दूसरे दिन पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी और रांची की मेयर आशा लकड़ा मोरहाबादी मैदान पहुंची और सहायक पुलिसकर्मियों से बातचीत की और उनका हाल जाना। इस दौरान मेयर आशा लकड़ा ने कहा कि हेमंत सरकार की कथनी और करनी में फर्क है। हेमंत सरकार रोजगार देने की बात करती है लेकिन हकीकत सामने है।

सहायक पुलिस कर्मियों की मांग पर मेयर आशा लकड़ा ने कहा कि पिछली सरकार ने वरीयता के आधार पर सहायक पुलिसकर्मियों के स्थायीकरण का आश्वासन दिया था। 31 अगस्त को सहायक पुलिसकर्मियों के संविदा की समयावधि समाप्त हो चुकी है। परंतु राज्य सरकार ने इनके संविदा विस्तार या स्थायीकरण की दिशा में कोई पहल नहीं की। एक ओर राज्य सरकार कोरोना काल में बेरोजगारों को रोजगार और बेरोजगारी भत्ता देने की घोषणा कर रही है। वहीं दूसरी ओर सहायक पुलिसकर्मियों की संविदा आधारित नौकरी को खत्म कर उन्हें बेरोजगार बना रही है। इससे स्पष्ट है कि राज्य सरकार की कथनी और करनी में अंतर है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को सहायक पुलिसकर्मियों के भविष्य को देखते हुए पूर्ववर्ती सरकार के दिशा निर्देशों का अनुपालन करना चाहिए।

सरकार पर लगाया युवाओं को बेरोजगार बनाने का आरोप
मेयर ने सहायक पुलिसकर्मियों को आश्वस्त करते हुए कहा कि मांग की जाएगी कि वरीयता के आधार पर सहायक पुलिसकर्मियों का स्थायीकरण कैसे किया जाए, इस मसले पर पुनर्विचार करें। मेयर ने कहा कि रघुवर सरकार ने संविदा पर सहायक पुलिसकर्मियों की नियुक्ति कर युवाओं के भविष्य की परिकल्पना की थी। वरीयता के आधार पर सहायक पुलिसकर्मियों के स्थायीकरण की नीति तैयार करने की दिशा में पहल की गई थी। परंतु वर्तमान सरकार राज्य के युवाओं को बेरोजगार करने पर तुली हुई है।

धूप के चलते पेड़ की छांव के नीचे आराम करते सहायक पुलिसकर्मी।
धूप के चलते पेड़ की छांव के नीचे आराम करते सहायक पुलिसकर्मी।

वहीं आंदोलनरत सहायक पुलिसकर्मियों से मिलने बाबूलाल मरांडी भी मोरहाबादी मैदान पहुंचे और उनका हाल जाना। सहायक पुलिसकर्मियों ने बताया कि वे पैदल चलकर अपने गृह जिला से यहां पहुंचे हैं, कई साथियों के पैर में छाले भी पड़ गए हैं। सहायक पुलिसकर्मियों ने पूर्व सीएम को बताया कि हमारे साथ कुछ महिलाएं भी हैं जिनके छोटे बच्चे हैं। न हमें पीने को पानी मिल पा रहा है और न ही खाने की कोई व्यवस्था है। हालांकि नगर निगम की ओर से मोरहाबादी मैदान में मोबाइल टॉयलेट वैन लगाए गए हैं जिससे महिलाओं को थोड़ी राहत है।

खुले पेड़ और छाते के बीच गुजर रहा दिन
सहायक पुलिसकर्मियों ने बताया कि शनिवार को भी वे पूरे दिन पेड़ के नीचे बैठकर और सोकर आराम करते रहे। रात होने के बाद मैदान में ही साथ लाए प्लास्टिक पर उन्होंने रात गुजारी। रविवार को भी ऐसी ही स्थिति देखने को मिली। मैदान में महिलाएं धूप से बचने के लिए छाता का सहारा तो पुरुष सहायक पुलिसकर्मी गमछा लेकर बैठे देखे गए।

सहायक पुलिसकर्मी महिलाओं से मुलाकात करती मेयर आशा लकड़ा।
सहायक पुलिसकर्मी महिलाओं से मुलाकात करती मेयर आशा लकड़ा।

सहायक पुलिसकर्मियों का है कहना
आंदोलनरत सहायक पुलिसकर्मियों का कहना है कि उनकी नियुक्ति पूर्व की रघुवर सरकार में 2017 में कॉन्ट्रैक्ट के बेस पर हुई थी। कहा गया था कि बाद में उन्हें परमानेंट कर दिया जाएगा। लेकिन अनुबंध समाप्त होने के बाद भी परमानेंट करने के लिए सरकार कोई प्रक्रिया नहीं अपना रही है जिससे उन्हें मजबूरन आंदोलन करना पड़ रहा है।

पहले दिन क्या हुआ
आंदोलन के पहले दिन राज्यभर के 25 सौ सहायक पुलिस कर्मियों को मनाने में डीआईजी-एसएसपी के अलावा 2 एसपी, 3 डीएसपी और 3 मेजर रैंक के अधिकारी शनिवार को दिनभर परेशान रहे, लेकिन सभी पूरी तरह से विफल रहे। इसके बाद वार्ताकारों ने सहायक पुलिसकर्मियों के प्रतिनिधिमंडल को सीएम से मिलवाने की बात कह कर साथ ले गए लेकिन उन्हें डीआईजी-एसएसपी से मिलवा दिया। इससे सहायक पुलिसकर्मी नाराज हो गए और कहा कि उनके साथ छल किया गया है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें