अपराध / प्रेमिका के परिजनों ने प्रेमी को घर बुलवाकर पीटा, युवती ने विरोध किया तो फंदे से लटका हत्या का किया प्रयास

ओपी प्रभारी रामाशंकर उपाध्याय ने बताया कि किशोरी के पिता पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पीड़ित पक्ष द्वारा थाना में आवेदन दिया गया है। जिसके आधार पर मामले की जांच की जा रही है। ओपी प्रभारी रामाशंकर उपाध्याय ने बताया कि किशोरी के पिता पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पीड़ित पक्ष द्वारा थाना में आवेदन दिया गया है। जिसके आधार पर मामले की जांच की जा रही है।
X
ओपी प्रभारी रामाशंकर उपाध्याय ने बताया कि किशोरी के पिता पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पीड़ित पक्ष द्वारा थाना में आवेदन दिया गया है। जिसके आधार पर मामले की जांच की जा रही है।ओपी प्रभारी रामाशंकर उपाध्याय ने बताया कि किशोरी के पिता पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पीड़ित पक्ष द्वारा थाना में आवेदन दिया गया है। जिसके आधार पर मामले की जांच की जा रही है।

  • युवती के पिता ने दबाव देकर बेटी से फोन करा युवक को बुलाया था घर, मारपीट के बाद बेहोश हुआ युवक तो परिजनों को बुला सौंपा

दैनिक भास्कर

Apr 25, 2020, 07:49 PM IST

गिरिडीह. धनवार प्रखंड क्षेत्र के परसन ओपी अंतर्गत ग्राम सलैयडीह में प्रेमी-प्रेमिका का प्यार सांप्रदायिक तनाव का रूप ले लेता लेकिन पुलिस के हस्तक्षेप से मामला संभाल लिया गया। प्रेमी और प्रेमिका के बीच मोबाइल पर बात होती थी, इसकी जानकारी घर वालों को थी। स्थानीय लोगों की मानें तो शुक्रवार देर रात को प्रेमिका के पिता ने पुत्री को फोन के माध्यम से प्रेमी को बुलाने का दबाव दिया। फोन आने पर प्रेमी अपनी प्रेमिका के घर पहुंचा तो पहले से घात लगाए बैठे प्रेमिका के परिजनों ने उसे पकड़ कर बेरहमी से पिटाई कर दी। किशोरी ने इसका विरोध किया तो परिजनों ने उसके साथ भी बेरहमी से मारपीट की और हत्या करने की नीयत से उसे फांसी के फंदे से लटका दिया। 

संयोग था कि घर की महिलाओं ने तत्परता दिखाते हुए हस्तक्षेप की और किशोरी को फांसी के फंदे से उतारा, जिससे उसकी जान बच गई। लेकिन फांसी के फंदे पर लटकने से किशोरी के गर्दन में जो जख्म हैं उससे उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। बाद में प्रेमिका के पिता ने प्रेमी के घर जाकर कहा कि पुत्र को जल्दी घर ले आओ नहीं तो कुछ भी अनहोनी हो सकती है। घर वाले तीन, चार सदस्य जब युवती के घर पहुंचे तो देखा कि उनका बेटा बेहोश पड़ा है।

जब घर लाया तो रात को लॉकडाउन की वजह से परिजन युवक का कहीं इलाज नहीं करा पाए। सुबह तक लड़के को होश नहीं आया और इस बात की जानकारी लड़के के घर वालों ने गांववालों को दी तो गांववालों ने कहा कि जिस तरह बेटा को उन्होंने तुम्हें सौंपा है, उसी तरह फिर से बेटे को उन्हें सौंप देते हैं। जब बेटे को लेकर परिजन व गांववाले युवती के घर पहुंचे तो माहौल तनावपूर्ण हो गया। इसकी जानकारी गांव वालों ने पुलिस को दे दी। 

सूचना के बाद मौके पर खोरीमहुआ एसडीपीओ नवीन कुमार सिंह, परसन ओपी प्रभारी रामाशंकर उपाध्याय सदल बल के साथ पहुंचे और मामले को शांत किया। इसके बाद इलाज के लिए प्रेमी-प्रेमिका दोनों को एंबुलेंस से रेफरल अस्पताल धनवार लाया। जहां चिकित्सकों ने प्राथमिक इलाज के बाद बेहतर इलाज के लिए रेफर कर दिया। अभी गिरिडीह सदर अस्पताल में दोनों का इलाज चल रहा है। 

युवक के भाई के आवेदन पर केस दर्ज
घटना के बाद प्रेमिका के पिता को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। वहीं प्रेमी के भाई ने ओपी में आवेदन देकर लड़की के पिता पर भाई को बुला कर गांव के ही सुभान मियां, इकबाल मियां, इमरान अंसारी, इकराम, इकरामुल अंसारी, सद्दाम अंसारी, जमाल अंसारी, सरफराज अंसारी, इस्माइल मियां पर जान मारने की नीयत से मारपीट का आरोप लगाया है। आवेदन में उल्लेख किया है कि भाई को उसकी प्रेमिका के पिता ने अपनी बेटी को फोन के माध्यम से बुलाने का दबाव दिया था, इसकी जानकारी घर वालों को नहीं थी। जब उसका भाई उसके घर गया तो जान मारने की नीयत से पांच, छह लोगों ने मारपीट की।

क्या कहते हैं ओपी प्रभारी 
इस बाबत ओपी प्रभारी रामाशंकर उपाध्याय ने बताया कि किशोरी के पिता पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पीड़ित पक्ष द्वारा थाना में आवेदन दिया गया है। जिसके आधार पर मामले की जांच की जा रही है। मामला दो संप्रदाय से जुड़ा है, जिससे सुरक्षा के दृष्टिकोण से गांव में पुलिस बल की तैनाती की गई है ताकि गांव में तनाव न बढ़े। फिलहाल माहौल नियंत्रण में है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना