पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हथौड़ा मारकर की पूरे परिवार की हत्या:पाताल लोक के कैरेक्टर हथौड़ा त्यागी से प्रभावित था TATA स्टील का कर्मचारी, बच्चों की टीचर को मारकर लाश के साथ रेप किया

​​​​​​​जमशेद्पुरएक महीने पहले
पत्नी वीणा कुमारी, बेटी श्रावणी और दिव्या के साथ दीपक कुमार (लाल टीशर्ट में)।

झारखंड के जमशेदपुर में एक सनसनीखेज वारदात सामने आई है। यहां TATA स्टील के एक कर्मचारी ने अपने पूरे परिवार की हथौड़ा मारकर हत्या कर दी। उसने अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए आने वाली महिला टीचर को भी मार डाला और उसकी लाश के साथ रेप भी किया। आरोपी पाताल लोक वेब सीरीज के कैरेक्टर हाथौड़ा त्यागी से प्रभावित था, इसलिए उसने सबको मारने के लिए वही तरीका चुना। आरोपी का नाम दीपक कुमार है वह जमशेदपुर के कदमा तीस्ता रोड पर रहता था। उसे धनबाद के HDFC बैंक से गिरफ्तार करके पुलिस ने जेल भेज दिया है। SSP डॉ. एम तमिल वाणन ने बताया कि दीपक को अपने पूरे परिवार की हत्या करने का कोई दुख नहीं है।

बचपन के दोस्त और उसके भांजे ने धोखा दिया
दीपक ने पुलिस को बताया कि उसने ये सब अपने बचपन का दोस्त प्रभु और उसके भांजे रोशन की हत्या करने के लिए किया, जिसमें वो कामयाब नहीं हो सका। इन दोनों की वजह से ही उसका पुश्तैनी घर 40 लाख रुपए में बिक गया था। प्रभु ने दीपक को 17 लाख रुपए में हाइवा (ट्रक) बेचा था। दीपक ने जोजोबेरा प्लांट में उसे लगा दिया था। लॉकडाउन लगते ही उसकी हाइवा गाड़ी चलना बंद हो गई। बाद में पता चला की हाइवा पर 5 लाख रुपए का रोड टैक्स बकाया है। इसके बाद किसी तरह प्रभु ने उसका हाइवा खड़गपुर में लगा दिया। इसमें भी रोशन ने 5 लाख का गबन कर दिया। इन घटनाओं के बाद दीपक पर काफी कर्ज हो गया। इसके बाद ही उसने दोनों को रास्ते से हटाने का प्लान बनाया।

दीपक बहुत शातिर है। हत्या करने के बाद वो अलग-अलग शहरों में घूमता रहा और अलग-अलग गाड़ियों से ट्रैवल करता रहा।
दीपक बहुत शातिर है। हत्या करने के बाद वो अलग-अलग शहरों में घूमता रहा और अलग-अलग गाड़ियों से ट्रैवल करता रहा।

पहले पत्नी की हत्या की, उसके बाद दोनों बेटियों को मारा
दीपक ने 12 अप्रैल को सुबह करीब 8:30 बजे सबसे पहले अपनी पत्नी वीणा कुमारी को हथौड़ा मारा और तकिए से मुंह दबाकर हत्या कर दी। इसके बाद अपनी बड़ी और फिर छोटी बेटी की हत्या की। फिर वह गहने लेने अपने ससुराल गया। चार हत्या करने के बाद दीपक राउरकेला गया। वहां उसकी बुलेट का टायर पंक्चर हो गया। गैरेज में बुलेट को खड़ी कर उसने कार बुक की और से पुरी चला गया। पुरी के एक होटल में वह 2 दिन तक रहा। फिर कार बुक कर वहां से रांची आ गया। रांची में उसने शॉपिंग की। इसके बाद वह कार से ही धनबाद पहुंचा। वहां शुक्रवार को HDFC बैंक में पैसे जमा करने के दौरान वह पकड़ा गया। करीब 12:30 बजे उसने बैंक में पैसे जमा किए। दोबारा 2:30 बजे फिर आया तो पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

शातिर है दीपक, बचने के लिए सब कुछ किया

  • बुलेट राउरकेला में खड़ी कर कार से धनबाद पहुंचा था।
  • धनबाद के बरटांड़ में फर्जी आईडी दिखाकर होटल में कमरा लिया।
  • बैंक में मुंह ढंककर पहुंचा था, आईडी मांगने पर होटल कर्मी से उलझा।
  • पहचान छिपाने के लिए आर्मी चैक का पैंट और तिरंगे के लोगो वाली टी शर्ट पहना था।

स्कूटी की चाबी नहीं दी तो टीचर को मार डाला
दीपक की दो बेटियां थीं। जिन्हें पढ़ाने के लिए एक महिला टीचर घर आती थीं। 12 अप्रैल को भी टीचर घर आईं। उनके आने से पहले दीपक अपनी पत्नी और दोनों बच्चियों की हथौड़ा मारकर हत्या कर चुका था। टीचर के आते ही दीपक ने उनके गले पर चाकू रख दिया और उनसे स्कूटी की चाबी मांगी। तीन लाशें देखने के बाद टीचर ने चिल्लाने की कोशिश की और दीपक ने उनकी भी हत्या कर दी। टीचर की लाश ठिकाने लगाते समय शव के साथ रेप भी किया।

जिसका मर्डर करना था, उसे पत्नी सहित खाने पर बुलाया
दीपक वेब सीरीज देखने का शौकीन था। घटना के 1 दिन पहले उसने अपनी पत्नी के साथ पाताल लोक देखी थी और उसी तरह सबका मर्डर किया। परिवार की हत्या के बाद उसने रोशन और उसकी पत्नी को खाने पर बुलाया, लेकिन दोनों के साथ रोशन का साला अंकित भी आ गया। इसके बाद भी दीपक ने हथौड़े से तीनों पर हमला किया, लेकिन वो लोग भाग निकले। पुलिस ने दीपक को घटनास्थल ले जाकर सीन रीक्रिएट करवाया। दीपक ने पुलिस को बताया कि उसने अपने परिवार की हत्या इसलिए की क्योंकि वह नहीं चाहता था कि उसके जेल जाने के बाद पत्नी और बेटियों को पैसे के लिए दर-दर भटकना पड़े।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

और पढ़ें