पलामू पुलिस के हत्थे चढ़े दो लुटेरे:अपराधियों ने फाइनेंस कंपनी के एजेंट से लूटा पैसा आलू के खेत में जमीन के अंदर छिपाया, टीम ने खोद कर निकाला, हथियार बरामद

पलामू14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पत्रवारवार्ता में जानकारी देते पुलिस अधीक्षक चंदन कुमार सिन्हा - Dainik Bhaskar
पत्रवारवार्ता में जानकारी देते पुलिस अधीक्षक चंदन कुमार सिन्हा

झारखंड के पलामू में हुए फाइनेंस एजेंट लूटकांड का खुलासा हो गया है। पुलिस ने इस मामलों में दो अपराधियों को गिरफ्तार किया है। इनकी पहचान कुमनी गांव के रहने वाले श्यामुद्दीन अंसारी (35) और आयूब अंसारी(22) के रूप में की गई है। इन अपराधियों ने गत 16 नवंबर की शाम कलेक्शन कर लौट रहे भारत फाइनेंस लिमिटेड के कलेक्शन एजेंट शिव शंकर कुमार से हथियार के बल पर पैसे का बैग, मोबाइल व बायोमीट्रिक मशीन की लूट कर ली थी। पुलिस से बचने के लिए इन अपराधियों ने पैसे को आलू के खेत में जमीन के अंदर छिपा दिया था। पुलिस ने जमीन खोद कर पैसा बाहर निकाल लिया। घटना में इस्तेमाल बाइक भी बरामद हो गई है।

कुछ ऐसी थी शिकायत
पुलिस के समक्ष दर्ज कराई गई शिकायत में फाइनेंस कंपनी के एजेंट की ओर से बताया गया था कि गत 16 नवंबर को इटको गांव में जयनगरा पुल के दोनों अपराधियों ने हथियार के दम पर 1,19,640 रुपये,एक टैब,मोबाइल फोन और बायोमीट्रिक मशीन लूट लिया था। पुलिस ने एक सप्ताह में इस कांड का खुलासा कर दिया।

बुधवार को चैनपुर थाना में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में SP चंदन कुमार सिन्हा ने बताया कि पुलिस ने चैनपुर थानाक्षेत्र से इन दोनों सड़क लुटेरों की गिरफ्तार की। गिरफ़्तार श्यामुद्दीन पहले भी जेल गया है।उसके ऊपर चैनपुर थाना में तीन और सतबरवा में एक मामला दर्ज है। अनुसंधान के क्रम में पुलिस को लुटेरों के बारे में जानकारी मिली।

इन्हें कुमनी स्थित घर से ही गिरफ्तार किया गया। 72000 रुपये बरामद हो गए हैं। श्यामुद्दीन के निशानदेही पर उसके घर के पीछे आलू के खेत से पैसा, देशी कट्टा और गोली बरामद किया गया। अपराधियों ने इसे जमीन के अंदर छिपा कर रखा था। घटना में प्रयुक्त बाइक आयूब के घर से मिली।लूट के बाद अपराधियों ने बैग,बायोमीट्रिक मशीन को जला दिया था। इसका अवशेष कुमनी जंगल से बरामद किया है।

लुटेरे और कलेक्शन एजेंट के बताए राशि में है अंतर
SP ने बताया कि कलेक्शन एजेंट ने शुरू में पुलिस से ढ़ाई लाख रुपये की लूट होने की बात कही थी।जब पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की तो 1,19,640 रुपये होने की बात कही। वंहीं लुटेरों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने 85000 रुपये लूटा था।लूट की राशि को लेकर दिए गए अलग-अलग बयान के बाद पुलिस यह मान कर चल रही है कि कलेक्शन एजेंट फाइनेंस कंपनी का पैसा वारदात के बहाने गायब करना चाहता है। कलेक्शन एजेंट से पुलिस ने पूरे कलेक्शन का डिटेल मांगा है। फिलहाल 1,19,640 रुपये की लूट होने की प्राथमिकी दर्ज है।