दुष्कर्म के दो आरोपियों को आजीवन कारावास:गुमला में एडीजे वन की अदालत ने सिसई व रायडीह के अलग-अलग मामलों में सुनाई कड़ी सजा, दोषियों पर जुर्माना तक लगाया

गुमला10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गुमला व्यवहार न्यायालय। - Dainik Bhaskar
गुमला व्यवहार न्यायालय।

झारखंड के गुमला जिले में दुष्कर्म की शिकार हुई दो नाबालिग बेटियों को लंबे इंतजार के बाद न्याय मिला है। एडीजे-वन सह स्पेशल जज पोस्को की अदालत ने बुधवार को दुष्कर्म के दो अलग-अलग मामलों में अपना फैसला सुनाया। पहला मामला सिसई थाना क्षेत्र का था। वहीं दूसरा मामला रायडीह का रहा। सिसई के मामले में पांच वर्ष तथा रायडीह के मामले में पीड़ता को न्याय के लिए आठ साल इंतजार करना पड़ा। दोनों मामलों में सरकारी पक्ष की ओर से अपर लोक अभियोजक ओम कुमार ने पैरवी की।

पहला मामला
पहला मामला वर्ष 2017 में सिसई थाना का है। पीड़िता की उम्र 15 वर्ष थी। वह मैट्रिक की परीक्षार्थी थी। घटना के समय पीड़िता सिसई में एक किराए के मकान में रहकर परीक्षा दे रही थी। गत 2 मार्च 2017 वह सिसई बाजार गई थी। वापस लौटने के दौरान शाम करीब छह बजे वह जैसे ही बगीचा के पास पहुंची। आरोपी मुंतजिर अंसारी अपने एक साथी के साथ बाइक पर सवार होकर पहुंचा। मासूम को पिस्तौल का भय दिखाकर कार्तिक स्कूल के पीछे ले गए थे।फिर जहां दोनो ने बारी बारी दुष्कर्म किया था। दोनों उसे घटनास्थल पर छोड़ कर भाग गए। बच्ची घटना की जानकारी अपनी एक सहेली को दी थी। पुलिस ने इस मामले में आरोपी मुंतजिर व उसके सहयोगी विद्यानशु शर्मा को गिरफ्तार कर जेल भेज दी थी। कोरोना काल में जेल में विद्यानशु शर्मा की मौत हो गई थी। आरोपी मुंतजिर को IPC की धारा 363/ 376 डी व पोस्को एक्ट के तहत आजीवन कारावास तथा 25 हजार रुपया का जुर्माना लगाया गया है।

दूसरा मामला
रायडीह थाना क्षेत्र के मांझा टोली स्थित चांदी बाड़ा बाना गांव का है। यह घटना वर्ष 2013 में घटी थी। उस समय पीड़िता की उम्र महज 12 वर्ष थी। वह गांव के ही स्कूल में पढ़ाई कर रही थी।घटना के वक्त पीड़िता अपने घर पर थी। रात में खाना खाने के बाद घर पर सो रही थी। इसी दौरान पड़ोस के रहने वाला बस एजेंट उदय मिंज पीड़िता के घर का दरवाजा खोल कर उसके कमरे में प्रवेश कर गया था। पीड़िता को चाकू का भय दिखाकर दुष्कर्म किया ।इस दौरान मासूम के रोने व चिल्लाने की आवाज सुनकर बगल के मरने में सो रहीं मां दीदी वहां पहुंच थी। जिसे देखकर आरोपी भाग निकला था। पीड़िता ने थाने पहुंचकर आरोपी के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई थी। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

खबरें और भी हैं...