पलामू पुलिस ने बरामद किए 2.1 Kg स्वर्ण आभूषण:पंजाब नैशनल बैंक लॉकर कांड में गहने खोने वाले उपभोक्ताओं को सामान की कराई गई पहचान

पलामू5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गहनों की पहचान करते उपभोक्ता। - Dainik Bhaskar
गहनों की पहचान करते उपभोक्ता।

झारखंड के पलामू जिले में पंजाब नैशनल बैंक के लॉकर में रखे ग्राहकों के गहनों को निकालकर बैंक अधिकारियों की ओर से गिरवी रखने के मामले में पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने इस मामले में 2.1Kg स्वर्ण आभूषण बरामद कर लिए हैं। इन आभूषणों को ICICI बैंक, मुथूट फाइनेंस और सर्राफा व्यपारियों के पास से बरामद किया गया है। गत 11 सितंबर को बैंक लॉकर से गहने गायब होने का मामला सामने आया था। इसके बाद एक-एक कर 7 लॉकरों से छेड़छाड़ की बात सामने आई। 14 सितंबर को इस मामले में FIR दर्ज हुई थी। पुलिस ने काफी तेजी से इस कांड का खुलासा किया।

पता चला कि बैंक का डिप्टी मैनेजर ग्राहकों के गहने उड़ाकर स्वर्ण कारोबारियों के पास गिरवी रख देता था। उनसे पैसे लेकर इसे ब्याज पर चलाता था। वहीं ICICI बैंक और मुथूट फाइनेंस में गहनों को रखकर गोल्ड लोन लिया गया था। इन पैसों को ब्याज पर लगाकर कमाई की जाती थी। अब तक इस मामले में पुलिस ने 15 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। काफी मशक्कत के बाद गहनों की बरामदगी कर ली गई।

पुलिस ने बरामद किए आभूषण।
पुलिस ने बरामद किए आभूषण।

ग्राहकों को जल्द वापस मिलेंगे गहने
पंजाब नैशनल बैंक के लॉकर से चोरी गए आभूषण उपभोक्ताओं को जल्द ही वापस मिल जाएंगे। इस दिशा में प्रक्रिया शुरू हो गई है। इस चर्चित कांड का खुलासा करने में शहर थाना पुलिस काफी तेजी से काम किया। पुलिस ने अलग-अलग जगहों से बरामद दो किलो एक सौ ग्राम गहनों की पहचान उनके दावेदारों से कराई। पहचान पैरेड दंडाधिकारी सदर अंचलाधिकारी जेके मिश्रा की मौजूदगी में हुई। गहनों की पहचान के लिए छह बैंक ग्राहक वेद प्रकाश शुक्ला,राजीव मुखर्जी,रमण कुमार सिंह,श्याम बागला,डॉ जय कुमार और बीके चौबे थाना पहुंचे थे।

मामले के पहले शिकायतकर्ता कृषि वैज्ञानिक एके सिंह शहर से बाहर होने के कारण पहचान पैरेड में शामिल नहीं हो सके। सभी गहनों को सील बंद डब्बे में रखा गया था। जिसे दावेदारों के सामने खोला गया। इसके बाद गहनों के पहचान का कार्यक्रम शुरू हुआ। कभी एक-एक कर बैंक ग्राहकों को कमरे में बुला कर पहचान कराया गया तो कभी सभी को साथ मे बुलाकर गहने पहचान कराए गए। महिलाएं अपने गहनों का फोटो भी मोबाइल फोन में रखे हुई थी। जिससे उन्हें उसे पहचानने में आसानी हुई।

खबरें और भी हैं...