पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Jharkhand Ranchi Coronavirus Latest News Updaets On Hospital Discharge Policy For COVID 19 Patients

आदेश:राज्य में कोरोना मरीजों के लिए नई डिस्चार्ज पॉलिसी; हल्के लक्ष्ण वाले मरीज 10 दिन में हो सकेंगे डिस्‍चार्ज, डिस्चार्ज करने से पहले टेस्टिंग की जरूरत नहीं

रांची13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
स्वास्थ्य विभाग की नई पॉलिसी के मुताबिक थोड़े गंभीर लक्षण वाले मरीजों को डेडिकेटेड कोविड हेल्‍थ सेंटर में ऑक्सीजन बैड्स पर रखा जाएगा। -फाइल फोटो।
  • डिस्चार्ज करने से पहले टेस्टिंग की जरूरत नहीं, मगर 7 दिन तक होम आइसोलेशन में रहना होगा
  • फिर से दिखें लक्षण तो कोविड केयर सेंटर या हेल्पलाइन 1075 पर करना होगा कॉन्‍टैक्‍ट, 14वें दिन फॉलोअप
  • मॉडरेट केसेज में 7 दिन तक मॉनटरिंग, फिर कुछ शर्तों के साथ 10 दिन बाद हो सकते हैं डिस्‍चार्ज

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के गाइडलाइन के मुताबिक झारखंड में कोरोना मरीजों के लिए नई डिस्चार्ज पॉलिसी लाई गई है। एनएचएम के अभियान निदेशक रवि शंकर शुक्ला ने राज्य के सभी सिविल सर्जन, सर्विलांस अधिकारी तथा मेडिकल कालेज के प्रिसिंपल और अधीक्षक को निर्देश दिया है कि नई डिस्चार्ज पॉलिसी का पालन किया जाए। नई डिस्चार्ज पॉलिसी के मुताबिक कोविड केयर सेंटर में रह रहे बिना लक्षण वाले यानी एसिंप्टोमैटिक मरीजों को 10 दिन कोविड केयर सेंटर से डिस्चार्ज कर दिया जाएगा, लेकिन उन्हें 7 दिन होम क्वॉरंटीन में ही रहना होगा।

ऐसे किसी भी मरीज को डिस्चार्ज किया जाता है तो इससे पहले कोविड टेस्ट परीक्षण की जरूरत नहीं होगी। डिस्चार्ज होने के बाद अगर मरीजों को बुखार या फिर कोई और लक्ष्ण डेवलप होते हैं तो ऐसे मरीज कोविड केयर सेंटर से संपर्क करेंगे या फिर स्टेट हेल्प लाइन 1075 पर फोन करेंगे। ऐसे मरीजों का 14 दिन बात टेलिफोन पर स्वास्थ्य की जानकारी भी ली जाएगी।

मॉडरेट केसेज सीधे ऑक्सीजन बैड्स पर होंगे भर्ती
स्वास्थ्य विभाग की नई पॉलिसी के मुताबिक थोड़े गंभीर लक्षण वाले मरीजों को डेडिकेटेड कोविड हेल्‍थ सेंटर में ऑक्सीजन बैड्स पर रखा जाएगा। उन्हें बॉडी टेम्प्रेचर और ऑक्सीजन सैचुरेशन चेक्‍स से गुजरना होगा। अगर बुखार 3 दिन में उतर जाता है और मरीज का अगले 4 दिन तक सैचुरेशन लेवल 95% से ज्‍यादा रहता है तो मरीज को 10 दिन के बाद छोड़ा जा सकता है। मगर बुखार, सांस लेने में तकलीफ और ऑक्सीजन की जरूरत नहीं होनी चाहिए। ऐसे मरीजों को डिस्चार्ज से पहले टेस्टिंग से नहीं गुजरना होगा।

गंभीर मरीजों के लिए नई गाइडलाइंस
ऐसे मरीज जो ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं, उन्‍हें क्लिनिकल सिंपटम्स दूर होने के बाद ही डिस्चार्ज किया जाएगा। लगातार 3 दिन तक ऑक्सीजन सैचुरेशन मेंटेन रखने वाले मरीज ही डिस्चार्ज होंगे। इसके अलावा एचआईवी पेशेंट्स और अन्‍य गंभीर बीमारियों वाले पेशेंट्स को क्लिनिकल रिकवरी और आरटी-पीसीआर टेस्‍ट में नेगेटिव आने के बाद ही डिस्चार्ज किया जाएगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन परिवार व बच्चों के साथ समय व्यतीत करने का है। साथ ही शॉपिंग और मनोरंजन संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत होगा। आपके व्यक्तित्व संबंधी कुछ सकारात्मक बातें लोगों के सामने आएंगी। जिसके ...

और पढ़ें