सिमडेगा DC ने सील कराया लैंपस:सरकारी केंद्र से कम कीमत पर हो रही थी धान की खरीद, गोदाम में रखा जा रहा था अनाज

सिमडेगाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गोदाम सीलकरने पहुंचे अधिकारी। - Dainik Bhaskar
गोदाम सीलकरने पहुंचे अधिकारी।

झारखंड के सिमडेगा जिले में धान खरीद में अनियमितता की शिकायत सामने आई है। पता चला है कि सरकारी धान क्रय केंद्र पर किसानों से सरकार के निर्धारित मूल्य से कम कीमत पर धान की खरीद हो रही थी। उपायुक्त सुशांत गौरव ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए1 लैंपस को सील करा दिया है। मामला सदर प्रखंड के तामड़ा गांव का है। सरकार के निर्देश एवं नियमों को ताक पर रखकर धान क्रय में किसानों के साथ फर्जीवाड़ा हो रहा था।

जांच के लिए क्रय केंद्र पर पहुंची टीम।
जांच के लिए क्रय केंद्र पर पहुंची टीम।

जांच में पता चला कि लैंपस में मौजूद लोग किसानों से कम दाम पर धान की खरीद गोदाम में रखा जा रहा था। शिकायत मिलने पर DC सुशांत गौरव ने मंगलवार को अधिकारियों को जांच के लिए भेजा। DSO पुनम कच्छप के निर्देश पर DCO रितूराज प्रसाद,BCO श्याम सुंदर राम,सुधांशु कुमार ने तामड़ा लैम्पस की जांच की। जांच में शिकायत सही पाई गई। इसके बाद मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए लैंपस के गोदाम को सील कर दिया गया। जांच में यह तथ्य सामने आया कि लैंपस के सचिव जमशेद अली के द्वारा गलत तरीके से किसानों से सरकार द्वारा निर्धारित दर से कम कीमत पर धान की खरीद कराई जा रही थी।

306 बोरी धान हुआ बरामद
DCO रीतूराज प्रसाद ने बताया कि प्रारंभिक जांच के क्रम में पता चला है कि सचिव जमशेद अली के द्वारा किसानों से 12-13 रुपए प्रति किलो की दर से धान की खरीददारी की गई है। वहीं सरकारी दर 20 रुपये प्रति किलो निर्धारित है। उन्होंने बताया कि जांच में गोदाम में 306 बोरी धान रखा पाया गया। जांच रिर्पोट DC को सौंपी जा रही है। इसके बाद निर्देश के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

गलत करने वाले लोगों पर होगी कार्रवाई:कृषि सचिव
कृषि पशुपालन एवं सहकारिता विभाग के सचिव अबू बकर सिद्दीक पी भी मंगलवार को सिमडेगा में ही थे। उन्होने कहा कि उन्हें मीडिया के माध्यम से घटना की जानकारी मिली। सचिव ने कहा कि DC सुशांत गौरव ने पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए लैंपस गोदाम को सील करा दिया है। मामले की जांच शुरु कर दी है। सचिव ने कहा कि किसानों के साथ गलत कार्य करने वाले लोगों पर कार्रवाई होगी।

खबरें और भी हैं...