मोतियाबिंद का ऑपरेशन कराने के बाद आंख की रोशनी गई:साहिबगंज में 12 लोगों ने कराया था ऑपरेशन, चिकित्सक की लापरवाही से रोशनी जाने का आरोप

साहिबगंज3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
साहिबगंज में मोतियाबिंद के मरीज। - Dainik Bhaskar
साहिबगंज में मोतियाबिंद के मरीज।

साहिबगंज में मोतियाबिंद का ऑपरेशन कराने के बाद 12 लोगों के एक आंख की रोशनी चली गई। घटना बरहरवा नगर पंचायत क्षेत्र के मेन रोड स्थित झारखंड सेवा सदन की है। ऑपरेशन कराने गए लोगों का आरोप है कि मोतियाबिंद के ऑपरेशन में चिकित्सकों की लापरवाही के कारण आंख की रोशनी चली गई। सभी पीड़ितों ने मुख्यमंत्री आरोग्य आयुष्मान भारत योजना के तहत ऑपरेशन करवाया था। इस मामले को लेकर सिविल सर्जन डॉ. अरविंद कुमार ने कहा कि मामले की जांच कराई जाएगी।

दरअसल, 15 दिन पूर्व कुछ लोगों ने मोतियाबिंद की समस्या के बाद आंख का ऑपरेशन झारखंड सेवा सदन में करवाया था। इसके बाद उन लोगों की आंख की रोशनी चली गई। मामले को लेकर पीड़ित महरमा निवासी सहदेव मंडल ने बताया- "6 अक्टूबर को मोतियाबिंद को लेकर उन्होंने अपना ऑपरेशन कराया था। इसके बाद से ऑपरेशन कराए गए उनके आंख की रोशनी चली गई है।" उन्होंने बताया कि अस्पताल प्रबंधन से इसकी शिकायत की तो अस्पाल प्रबंधन द्वारा उनसे कुछ समय मांगा गया।

पीड़ितों में रामनगर निवासी सेना शेख, जामनगर निवासी रोबी रजवार व अन्य शामिल है। इन लोगों का इलाज आयुष्मान भारत योजना के तहत किया गया था। इधर, मोतियाबिंद ऑपरेशन में आंखों की रोशनी जाने के संबंध में साहेबगंज के सिविल सर्जन डॉ. अरविंद कुमार सिंह ने बताया कि इस संबंध में मीडिया के माध्यम से उन्हें जानकारी मिली है। मरीजों द्वारा अभी तक किसी प्रकार की शिकायत उन तक नहीं पहुंची है। फिर भी मामले में संज्ञान लेकर जांच कराई जाएगी। उन्होंने कहा जहां तक सेवा सदन के निबंधित होने का प्रश्न है तो सरकार से क्लीनिक निबंधित है, मामले की गंभीरता से जांच कराई जाएगी।