हिम्मत कैसे हारतीं, मां जो थीं!:प्रेग्नेंट आदिवासी महिला को नहीं मिली सरकारी एंबुलेंस, प्राइवेट गाड़ी कीचड़ में फंसी तो महिलाओं ने 1 KM गोद में उठाकर पहुंचाया

चाईबासाएक महीने पहले
गांव की महिलाएं मालती को गोद में उठा कर वाहन तक ले गई।

मझगांव विधानसभा क्षेत्र में एक ऐसा गांव है, जहां सड़क नहीं होने का खामियाजा ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। इसका उदाहरण शनिवार को मंझारी प्रखंड के इपिलसिंगी पंचायत अंतर्गत पड़ने वाले जोजोबेड़ा गांव में देखने को मिला। जहां एक गर्भवती महिला को अस्पताल पहुंचाने के लिए गांव की महिलाओं ने गोद में उठाकर एक किलोमीटर दूर एंबुलेंस तक पहुंचाया। इसके बाद वह अस्पताल पहुंच सकी।

हुआ यूं कि दोपहर में जोजोबेड़ा निवासी आदिवासी दिनेश तामसोय की पत्नी मालती अचानक प्रसव पीड़ा से तड़पने लगी। कई बार सरकारी एम्बुलेंस 108 पर संपर्क करने का प्रयास किया गया, मगर संपर्क नहीं हो पाया। प्रसव पीड़ा से तड़पता देख परिजनों ने प्राइवेट गाड़ी मंगवाई, मगर बारिश की वजह से सड़क इतनी कीचड़ युक्त थी कि गाड़ी भी उसमें फंस गई। किसी को कोई उपाय नहीं सूझा तो गांव की महिलाएं मालती को गोद में उठा कर करीब एक किलोमीटर दूर वाहन तक ले गई। इसके बाद उसे सदर अस्पताल चाईबासा में लाकर भर्ती करवाया गया। मालती ने अस्पताल में एक स्वस्थ बच्ची को जन्म दिया।

सड़क पर पैदल चलना भी कठिन

ग्रामीणों और मजदूर नेता माधव चंद्र कुंकल ने गांवों में सड़कों की हालत पर अफसोस जाहिर किया है। कुंकल ने बताया- 'संग्रामबासा से जोजोबेडा तक की सड़क पूरी तरह जर्जर और कीचड़ युक्त हो गई है। गाड़ी चलना तो दूर पैदल चलना भी मुश्किल है। यहां के लोगों ने बहुत बार क्षेत्रीय विधायक से सड़क बनवाने की मांग की है, मगर ग्रामीणों को चुनावी आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला।'

MLA बोले- बारिश के बाद बनेगी सड़क, मिलेगी राहत

मझगांव विधायक निरल पूर्ति ने बारिश के बाद सड़क बनवाने की बात कही है। उन्होंने इस घटना को राजनीतिक साजिश करार दिया है। विधायक ने जोजोहातु गांव में सड़क होने का दावा किया। कहा कि लगातार हो रही बारिश के कारण सड़क खराब हो गई है, जिसके कारण गांव के लोगों को परेशानी हुई। इसके लिए खेद है। बरसात खत्म होते ही सड़क बनाने का काम किया जाएगा। विधायक ने यह भी दावा किया कि मझगांव विधानसभा क्षेत्र में सड़कों की स्थिति सबसे अच्छी है।

पूर्व मंत्री ने की घटना की निंदा, विधायक को किया चैलेंज

मंझारी प्रखंड के जोजोबेड़ा में सड़क की जर्जर हालत के कारण गर्भवती महिला को गोद में उठाकर कार तक पहुंचाने का मामला सामने आने के बाद राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है। इस मामले में पूर्व मंत्री बड़कुंवर गागराई ने विधायक पर पलटवार किया है। गागराई ने कहा कि 10 साल विधायक रहने के बाद भी विधायक ने कोई काम नहीं किया।

उन्होंने चैलेंज किया कि विधायक बताएं कि उन्होंने 10 साल में कौन सी सड़क बनवाई है। जिले में पैसे की कोई कमी नहीं है, इसके बाद भी सड़क क्यों नहीं बन पाई। गागराई ने कहा कि सड़क नहीं होने के लिए सांसद और विधायक दोनों ही जिम्मेदार हैं। उन्होंने विधायक पर ठेकेदारी करने का आरोप लगाया है। ठेकेदारों को डराने का आरोप लगाया। इस मामले में वह पीआईएल भी करेंगे।

खबरें और भी हैं...