पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Hemant Soren | Ranchi Coronavirus News Update; Corona Victim Threat By Her Neighbors, Hemant Soren Directed DC Chitra Ranjan

आपबीती:कोरोना पीड़ित युवती ने फेसबुक लाइव पर कहा- मुझे और मेरे परिवार को किया जा रहा प्रताड़ित, जान से मार देना चाहते हैं पड़ोसी

रांची5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फेसबुक लाइव के जरिए जानकारी देती कोरोना पॉजिटिव युवती।
  • मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने रांची के डीसी छवि रंजन को मामले की जांच कर युवती एवं उनके परिवार को मदद पहुंचाने का दिया निर्देश

मोरहाबादी मस्जिद के पास रहने वाली युवती ने फेसबुक लाइव के जरिए कहा है कि कोरोना पीड़ित होने की वजह से उनके पड़ोसी उसे और उसके परिवार को प्रताड़ित कर रहे हैं और जान से मारने पर उतारू हैं। युवती ने बताया है कि 14 सितंबर को उन्होंने कोरोना टेस्ट कराया था। उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद उन्हें रिम्स ने एडमिट करने से मना कर दिया और वे होम आइसोलेशन में हैं। इस दौरान उन्हें तमाम तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। युवती की परेशानियों की जानकारी के बाद सीएम हेमंत सोरेन ने रांची के डीसी छवि रंजन को मामले की जांच करने एवं कोरोना पीड़ित युवती और उसके परिवार को मदद पहुंचाने का निर्देश दिया है।

युवती ने बताया कि उन्हें सांस लेने में तकलीफ थी, टेस्ट भी पता नहीं चल रहा था। चार सितंबर को रिम्स में उन्होंने कोविड टेस्ट कराया। छह सितंबर को उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। रिम्स में डॉक्टरों ने उन्होंने कहा कि घर पर होम आइसोलेशन की कोई व्यवस्था नहीं होने के चलते वो रिम्स में ही एडमिट होना चाहती हैं। इसके बाद डॉक्टर्स ने कहा कि आप यहां नहीं रह सकती। आप एसिंप्टोमैटिक हैं। इसके बाद मैं होम आइसोलेशन में आ गई। सात सितंबर को मुझे सीओ, नगर निगम, बरियातू थाना के एसआई से कॉल आया। सबने मुझसे कहा कि आप होम आइसोलेशन में रहना चाहती हैं। इसके बाद युवती ने कहा कि हां रिम्स में मुझे एडमिट नहीं किया गया जिसके चलते मैं होम आइसोलेशन में हूं। सात सितंबर को ही मेरे घर के बाहर बैरिकेडिंग कर दी गई। आठ सितंबर को मेरे घर के बाहर स्टिकर चिपका दिया गया।

आठ सितंबर को ही मुझसे एक फॉर्म भराया गया जिसमें लिखा गया कि एक निजी डॉक्टर की सलाह पर मैं होम आइसोलेशन में रह रही हूं लेकिन सच ये है कि मैं किसी भी निजी डॉक्टर के संपर्क में नहीं हूं जबकि रिम्स से मैंने पूछा था कि मेरा टेस्ट कैसे होगा तो उन्होंने कहा था कि आपको सारी सुविधाएं मुहैया कराई जाएगी। 11 सितंबर को मेरा टेस्ट होना था, मैंने सीओ को फोन किया तो उन्होंने कहा कि आपका टेस्ट 14 सिंतबर को होगा।

14 सितंबर को ही लाइव आकर युवती ने बताया कि मेरे मोहल्ले के कुछ लोग बबलू अंसारी, महादेव, छोटू लोहरा और राजा लोहरा। ये सभी सात सिंतबर से ही हमें मारने की कोशिश कर रहे हैं। उनका कहना है कि मैं कहीं और से बीमारी लेकर आई हूं और मुझे या फिर मेरे परिवार को जिंदा रहने का कोई हक नहीं है। मुझसे पूरे मोहल्ले में कोरोना फैल जाएगा। युवती ने बताया कि जिस दिन बैरिकेडिंग की गई उस दिन किसी ने नहीं बताया कि आपको जितनी जरूरत की चीजें चाहिए आप ले आईए। मेरी मम्मी हार्ट पेशेंट है, छह महीना पहले उन्हें हार्ट अटैक आया है। उनकी मेडिसिन चलती है। अगर हमें कोई कुछ मदद करने या देने आता है तो उसे मोहल्ले वाले डराते धमकाते हैं।

डीसी को मैसेज किया लेकिन कोई रिप्लाई नहीं आया
युवती ने बताया इस संबंध में मैंने 12 सितंबर को ट्विटर पर डीसी छवि रंजन को मैसेज किया लेकिन उनका कोई रिप्लाई नहीं आया। मैंने सीओ को भी वॉट्सऐप पर बताया कि बबूल, महादेव नाम का आदमी मुझे और मेरे परिवार को मेंटली प्रताड़ित कर रहे हैं, उन्होंने भी कोई एक्शन नहीं लिया। मैंने सीओ को बताया कि मेरी फैमिली के सभी लोग निगेटिव हो चुके हैं, फिर भी हमें मारने की धमकी दी जा रही है लेकिन कोई एक्शन नहीं लिया गया। 14 सितंबर को सुबह मैंने सभी को फोन भी किया लेकिन किसी ने कॉल रिसीव नहीं किया। 13 सितंबर को मेरे घर के बाहर मोहल्ले के लोग आए और घर के दरवाजे पर पत्थरबाजी की। हम लोग डर गए थे। हमने सोचा कि सुबह सब ठीक हो जाएगा।

14 को मेरा टेस्ट होना था। सीओ को फोन किया तो उन्होंने कहा कि मोरहाबादी में कैंप लगा है वहां आप जाकर टेस्ट करा लीजिए। मैंने कहा कि टेस्ट करने वाले तो घर पर आते हैं, उन्होंने कहा कि नहीं आपको जाना होगा। फिर मैंने कहा कि आप बैरिकेडिंग हटवा दीजिए उन्होंने फिर कहा कि नहीं जब तक आप कोरोना निगेटिव नहीं होंगे, बैरिकेडिंग नहीं हटेगी। मैंने कहा कि अगर मैं बैरिकेडिंग खोल कर गई तो मोहल्ले के लोग मुझे और मेरे परिवार को जान से मार देंगे। उन्होंने कहा कि तब हम कुछ नहीं जानते, आप प्राइवेट बुला लीजिए। इसके बाद युवती ने कहा कि आप बैरिकेडिंग हटवा देंगे तो हम सब्जी, दूध राशन वगैरह ला पाएंगे।

युवती ने कहा कि काश मैं दिल्ली में होती, वहां सुविधाएं हैं। मैं खुद को कोस रही हूं कि आखिर मैं झारखंड में क्यों हूं। यहां की व्यवस्था काफी गंदी है। मोहल्ले के 2000 लोग मेरे घर पर हमें मारने पहुंचे। बीच-बचाव में मेरे भाई-बहन को चोट आई। कोई हमारी मदद नहीं कर रहा है। युवती ने कहा कि शिबू सोरेन को कोरोना हुआ तो उन्हें कितनी सुविधाएं मिली। कोरोना अगर पैसे वाले को हो तो वो ठीक हो सकता है। उन्हें सभी सुविधा मिलेगी, बेड मिलेगा, हॉस्पिटल मिलेगा।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें